राज्य ब्यूरो, देहरादून। Chardham Yatra 2021 कोरोना वायरस संक्रमण के मामलों में कमी आने के साथ ही सरकार ने चारधाम यात्रा को खोलने की कवायद शुरू कर दी है। प्रथम चरण में चमोली, रुद्रप्रयाग व उत्तरकाशी जिलों के स्थानीय निवासियों के लिए यात्रा खोली गई है। इन जिलों के निवासी 72 घंटे पहले तक की आरटीपीसीआर की निगेटिव रिपोर्ट होने पर मंगलवार से धामों में दर्शन कर सकते हैं। सरकार के प्रवक्ता एवं कैबिनेट मंत्री सुबोध उनियाल के अनुसार आने वाले दिनों में परिस्थितियों की समीक्षा कर चरणबद्ध तरीके से अन्य जिलों व फिर अन्य राज्यों के निवासियों के संबंध में निर्णय लिया जाएगा।

प्रदेश में कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर तेज होने के कारण सरकार ने इस वर्ष 14 मई से प्रारंभ होने वाली चारधाम यात्रा स्थगित कर दी थी। हालांकि, चारधाम बदरीनाथ, केदारनाथ, गंगोत्री व यमुनोत्री के कपाट निर्धारित तिथियों पर खुले और वहां सीमित संख्या में तीर्थ पुरोहित पूजा-अर्चना कर रहे हैं। इस बीच कोरोना संक्रमण के मामलों में कमी आने पर चारधाम यात्रा को खोलने की मांग निरंतर उठ रही थी। चमोली, रुद्रप्रयाग व उत्तरकाशी जिलों के स्थानीय निवासी लगातार उन्हें धामों में दर्शनों की अनुमति देने पर जोर दे रहे थे। चारधाम इन्हीं तीन जिलों में हैं।

चारधाम यात्रा का धार्मिक महत्व तो है ही, यह प्रदेश की आर्थिकी से भी जुड़ी है। चारधाम यात्रा स्थगित होने के कारण पर्यटन व तीर्थाटन से जुड़े व्यक्तियों को इस वर्ष भी भारी नुकसान उठाना पड़ रहा था। इन सब परिस्थितियों को देखते हुए सरकार भी चारधाम यात्रा शुरू करने के मद्देनजर कसरत में जुटी हुई थी। गहन विमर्श के बाद सरकार ने आरटीपीसीआर की निगेटिव रिपोर्ट के साथ चमोली, रुद्रप्रयाग व उत्तरकाशी के निवासियों को धामों में दर्शन की अनुमति दे दी है।

यह भी पढ़ें- उत्तराखंड में देश के अंतिम गांव नीति माणा से नेपाल सीमा तक प्रार्थना सभाएं

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

Edited By: Raksha Panthri