संवाद सहयोगी, रुद्रप्रयाग: Chardham Yatra 2022 चारधाम में हृदयाघात से मरने वाले श्रद्धालुओं का आंकड़ा लगातार बढ़ता जा रहा है। बीते तीन दिनों में 24 श्रद्धालु हृदयाघात से दम तोड़ चुके हैं। जबकि, अब तक 92 श्रद्धालुओं ने चारों धाम में दम तोड़ा। गुरुवार को केदारनाथ में चार, बदरीनाथ में तीन, गंगोत्री में एक और यमुनोत्री में दो श्रद्धालुओं की मौत हृदयाघात से हुई।

मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा.बीके शुक्ला ने बताया कि गुरुवार को केदारनाथ धाम में नालंदा (बिहार) निवासी नंदू (65), बलरामपुर (उत्तर प्रदेश) हरिद्वार तिवारी (62), विश्वेश्वर नगर, आलमबाग (उत्तर प्रदेश) निवासी रामनारायण त्रिपाठी (65) और सीसवाली, बारां (राजस्थान) निवासी हेमराज सोनी (61) की मौत हृदयाघात से हुई।

बदरीनाथ धाम में तीन श्रद्धालुओं की मौत हुई, इनमें चित्तौडग़ढ़ (राजस्थान) निवासी कमला बाई (62), विवेकानंद नगर (कर्नाटक) निवासी विजय कुमार (72) और राजस्थान निवासी भंवर लाल (65) शामिल हैं। उधर, यमुनोत्री दर्शनों से लौट रहे नैनी, इलाहाबाद (उत्तर प्रदेश) निवासी रामचंद्र शाहू (67) ने पैदल मार्ग पर खरादी के पास एक होटल में दम तोड़ा। जबकि, सांडवा, चुरू (राजस्थान) निवासी लालचंद राठी (56) की मौत जानकीचट्टी से यमुनोत्री जाते हुई। वहीं बुधवार की रात हर्षिल में ठहरे उत्तर प्रदेश के बेलागंज पटवारी (आगरा) निवासी चंद्रभान राठौर (65) की हृदय गति रुकने से मौत हो गई।

हृदयाघात से मरने वाले श्रद्धालु

धाम, 26 मई को, कुल मृतक

यमुनोत्री, 02, 25

गंगोत्री, 01, 05

केदारनाथ, 04, 41

बदरीनाथ, 03, 16

ऋषिकेश, 00, 05

यह भी पढ़ें- Chardham Yatra 2022: चारधाम यात्रा में नहीं थम रहा मौत का सिलसिला, यमुनोत्री व बदरी-केदार में हृदयाघात से आठ की मौत

यात्रा के शुरुआती पड़ावों में बढाएं स्वास्थ्य शिविर

वित्त, विधायी एवं संसदीय कार्य मंत्री प्रेमचंद अग्रवाल ने कहा कि चारधाम यात्रा पर आने वाले श्रद्धालुओं की स्वास्थ्य संबंधी जांच को हरिद्वार और ऋषिकेश जैसे शुरुआती पड़ावों में शिविरों की संख्या बढ़ाई जाए। साथ में यात्रा के लिए पोर्टल पर पंजीकरण करने के बाद अनुमति पाने वाले श्रद्धालुओं को चारधाम भेजा जाना चाहिए।

कैबिनेट मंत्री प्रेमचंद अग्रवाल ने गुरुवार को सचिवालय स्थित वीर चंद्र ङ्क्षसह गढ़वाली सभागार में वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से चारधाम यात्रा व्यवस्था की जानकारी ली। बैठक में उन्होंने कहा कि बड़ी संख्या में श्रद्धालु देवभूमि उत्तराखंड पहुंच रहे हैं। देशभर से लोग चारधाम के दर्शन के लिए आनलाइन व आफलाइन पंजीकरण करा रहे हैं। सात जून तक पंजीकरण के स्लाट पूरे हो चुके हैं।

सरकार का प्रयास है कि श्रद्धालुओं को किसी भी प्रकार की कोई परेशानी न हो। उन्होंने आनलाइन व आफलाइन पंजीकरण काउंटर की संख्या बढ़ाकर लगातार मानीटरिंग के निर्देश दिए। कैबिनेट मंत्री अग्रवाल ने कहा कि जिन श्रद्धालुओं को स्वास्थ्य संबंधी परेशानी हो रही है, उन्हें मैदानी स्थानों पर रोककर चिकित्सा सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएं, ताकि उन्हें ऊंचाई पर असुविधा न हो।

उन्होंने कहा कि यात्रा में ट्रैफिक व्यवस्था महत्वपूर्ण है। इसके लिए जगह-जगह बैरियर लगाकर ट्रैफिक नियंत्रित किया जाना चाहिए। यात्रा से संबंधित जिलों के जिलाधिकारियों, पुलिस अधिकारियों को आपस में तालमेल कर व्यवस्था दुरुस्त रखने की हिदायत दी गई। उन्होंने कहा कि श्रद्धालुओं के साथ अतिथि देवो भव: के भाव से अच्छा आचरण किया जाना चाहिए।

विस सत्र के स्थान परिवर्तन पर हो विचार

बैठक में पुलिस उपमहानिरीक्षक कार्मिक पी रेणुका देवी ने बताया कि वर्तमान में पुलिस भर्ती प्रक्रिया चलने से अधिकतर पुलिस कार्मिकों की ड्यूटी भर्ती शिविरों में लगी हुई है। वर्चुअल भागीदारी कर रहे पुलिस उप महानिरीक्षक केएस नगन्याल ने कहा कि चारधाम यात्रा में भीड़ देखते हुए आगामी विधानसभा सत्र के प्रस्तावित स्थल गैरसैंण के समय व स्थान पर विचार किया जाना चाहिए। बैठक में सचिव दिलीप जावलकर, गढ़वाल मंडलायुक्त सुशील कुमार, वीडियो कांफ्रेंसिंग से रुद्रप्रयाग, चमोली, टिहरी, हरिद्वार व उत्तरकाशी के जिलाधिकारी व पुलिस अधीक्षक उपस्थित रहे।

गंगोत्री यात्रा पर आए यात्री की नदी में बहने से मौत

उत्तरकाशी। गंगोत्री धाम में नहाते समय भागीरथी नदी में बहे तीर्थयात्री की मौत हो गयी। गत बुधवार की शाम को गंगोत्री में नहाते समय अशोक बाबू (63) निवासी मारूति नगर हैदराबाद तेज बहाव में आया। राज्य आपदा मोचन बल की टीम ने अशोक बाबू को भागीरथी निकाला था। उपचार के लिए जिला चिकित्सालय उत्तरकाशी लाया गया जहां चिकित्सकों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

यह भी पढ़ें- Chardham Yatra 2022: केदारनाथ व यमुनोत्री यात्रा पटरी पर लौटी, अब तक चारधाम में 10 लाख से ज्‍यादा श्रद्धालुओं ने किए दर्शन

Edited By: Sumit Kumar