संवाद सहयोगी, रुद्रप्रयाग : Chardham Yatra 2022 : केदारनाथ के लिए इस यात्राकाल में पहली बार बरसात में भी हवाई सेवा जारी रहेगी। केदारनाथ के लिए हवाई सेवाएं दे रही हेली कंपनी हिमालयन हेली सर्विसेज ने निर्णय लिया है कि वर्षाकाल में भी केदारनाथ के लिए सेवाएं जारी रहेंगी।

पिछले एक हफ्ते के दौरान आठ हवाई कंपनियां केदारनाथ से पहले ही वापस लौट चुकी हैं। हिमालय हैली सर्विसेज के निदेशक बांगचुक ने बताया कि वर्षाकाल में भी कंपनी केदारनाथ के लिए हवाई सेवा जारी रखेगी। वर्षाकाल में मौसम का मिजाज अनुकूल नहीं रहता है, ऐसे में कंपनी मौसम साफ रहने पर सेवाएं जारी रखेगी।

चारधाम मार्ग के 77 स्थानों पर लगेंगे क्रैश बैरियर

प्रदेश के चारधाम मार्ग पर चिह्नित 77 अति संवेदनशील स्थलों पर क्रैश बैरियर लगाए जाएंगे। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने इसके निर्देश देते हुए कहा कि यात्रा मार्गों पर सड़क दुर्घटनाओं में होने वाली क्षति की रोकथाम एवं दुर्घटना होने पर वाहनों को गहरी खाई में गिरने से रोकने के लिए क्रैश बैरियर लगाए जाने जरूरी हैं।

प्रदेश में चारधाम यात्रा मार्ग पर इस साल सड़क दुर्घटनाओं की संख्या में काफी बढ़ोतरी हुई है। पुलिस, परिवहन व लोक निर्माण विभाग के सर्वे में चमोली, उत्तरकाशी, रुद्रप्रयाग, टिहरी एवं पौड़ी जिले के चारधाम यात्रा मार्गों पर दुर्घटना के लिहाज से 77 अतिसंवेदनशील क्षेत्र चिह्नित किए गए हैं। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने इसका संज्ञान लेते हुए लोक निर्माण विभाग के मंत्री सतपाल महाराज और परिवहन मंत्री चंदन राम दास को पत्र लिखकर इन स्थानों पर दो चरणों में क्रैश बैरियर लगाने के निर्देश दिए हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि यात्रा मार्ग पर अभी भी कई ऐसे अतिसंवेदनशील क्षेत्र हैं, जहां दो क्रैश बैरियर के बीच काफी फासला है। यहां वाहनों के दुर्घटनाग्रस्त होने की सूरत में इनके गहरी खाई में गिरने की आशंका बढ़ जाती है। इससे जानमाल की हानि अधिक होने की भी आशंका रहती है।

इसे देखते हुए इन स्थानों पर क्रैश बैरियर लगाए जाने जरूरी हैं। उन्होंने लोक निर्माण विभाग मंत्री और परिवहन मंत्री को लिखे पत्र में कहा है कि इन अतिसंवेदनशील स्थलों में से शीर्ष प्राथमिकता वाले 10 स्थलों पर पहले चरण में क्रैश बैरियर लगाए जाएं। दूसरे चरण में शेष बचे बैरियर लगाने की कार्यवाही भी तेजी से की जाए।

यह भी पढ़ें :- Chardham Yatra 2022 : हृदयाघात से बदरी-केदार व हेमकुंड में चार की मौत, अब तक 209 तीर्थ यात्री तोड़ चुके दम

Edited By: Nirmala Bohra