संवाद सहयोगी, गोपेश्वर: Chardham Yatra 2022 :  मानसून से पहले ही वर्षा ने आमजन की मुश्किलें बढ़ा दी हैं। वर्षा के चलते रविवार तड़के बदरीनाथ हाइवे चमोली व जोशीमठ के बीच पागलनाला व विरही चाड़े में दो जगह भूस्खलन से बंद हो गया। वहीं रविवार को केदारनाथ हाईवे पर दो यात्री बसों पर पहाड़ी से बोल्डर गिर गए। इनकी चपेट में आकर उत्तर प्रदेश के एक श्रद्धालु की मौत हो गई, जबकि एक अन्य गंभीर रूप से घायल हो गया।

दो जगह भारी भूस्खलन होने से बाधित हो गया हाईवे

बदरीनाथ हाईवे पर नौ घंटे तक दो हजार से अधिक यात्री सड़क खुलने का इंतजार करते रहे। शनिवार रात्रि को शुरू हुई बारिश सुबह तक होती रही। इससे बदरीनाथ हाईवे पर चमोली व जोशीमठ के बीच पागलनाला में भारी मलबा आ गया। एनएच ने सुबह नौ बजे यहां पर हाईवे सुचारू किया। 

लगभग साढ़े पांच बजे चमोली के पास बिरही चाड़े में दो जगह भारी भूस्खलन होने से हाईवे बाधित हो गया। हाईवे बाधित होने के बाद पुलिस ने बिरही, चमोली में वाहनों को रोक दिया। इस दौरान एनएच ने हाईवे से मलबा हटाकर दोपहर ढ़ाई बजे हाईवे सुचारू किया गया। हालांकि इस दौरान पैदल आवाजाही सुचारू रही। हाईवे बाधित होने से बदरीनाथ, हेमकुंड साहिब और फूलों की घाटी को आने-जाने वाले दो हजार से ज्यादा यात्री नौ घंटे तक सड़क खुलने का इंतजार करते रहे।

एनएच के इंतजामों की खुली पोल

बदरीनाथ हाईवे पर विरही चाड़ा चिह्नित डेंजर जोन में है। एनएच ने मानसून के दौरान पर्याप्त मशीनों सहित तमाम इंतजामों का दावा किया था। लेकिन हाईवे बाधित होने के बाद जमीन पर स्थिति एकदम उल्टी थी। बिरही में सिर्फ एक जेसीबी मशीन ही भूस्खलन के एक घंटे बाद मौके पर पहुंची। खास बात यह है कि जो मशीन इस भूस्खलन जोन के लिए तैनात की गई थी, वह खराब थी। पुलिस उपाधीक्षक धन सिंह तोमर ने मौके पर पहुंचकर एनएच से मशीन उपलब्ध कराने को कहा, तो तब ट्रक से एक और मशीन लाद कर यहां काम पर लगाई गई।

पुलिस ने बांटी खाद्य सामग्री

हाईवे बाधित होने के बाद भूस्खलन स्थल के दोनों ओर वाहनों की कतार लगी थी। पुलिस ने वाहनों को पीपलकोटी व चमोली में रोका गया। इस दौरान पुलिस ने यात्रियों को बिस्किट, पानी सहित जूस उपलब्ध कराया गया। पुलिस ने यात्रियों को बारिश के दौरान हाईवे में सफर के दौरान सतर्कता अपनाने को कहा है।

रुद्रप्रयाग : यात्री बस पर गिरा बोल्डर, एक श्रद्धालु की मौत

वर्षा का क्रम शुरू होते ही चारधाम यात्रा मार्गों पर सफर के दौरान जोखिम बढ़ गया है। रविवार को केदारनाथ हाईवे पर दो यात्री बसों पर पहाड़ी से बोल्डर गिर गए। इनकी चपेट में आकर उत्तर प्रदेश के एक श्रद्धालु की मौत हो गई, जबकि एक अन्य गंभीर रूप से घायल हो गया। उसका उपचार चल रहा है। इनमें एक बस सीतापुर पार्किंग में खड़ी थी जबकि दूसरी बस श्रद्धालुओं को लेकर रुद्रप्रयाग से सोनप्रयाग जा रही थी।

रविवार सुबह रुद्रप्रयाग से सोनप्रयाग के लिए चली बस पर कुंड के पास पहाड़ी बोल्डर गिर गया, जो बस का अगला शीशा तोड़कर चालक के बराबर वाली सीट पर बैठी सवारियों पर जा लगा। दुर्घटना में पंचकुई झांसी उत्तर प्रदेश निवासी आकाश मलिक और धामपुर बिजनौर उत्तर प्रदेश निवासी अमर सिंह गंभीर रूप से घायल हो गए।

दोनों को आपातकालीन सेवा 108 की मदद से सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र अगस्त्यमुनि पहुंचाया गया। घायल अमर ने अस्पताल पहुंचने से पहले ही दम तोड़ दिया। आकाश का उपचार चल रहा है। दूसरी घटना केदारनाथ हाईवे पर सीतापुर में हुई। यहां एक यात्री बस पार्किंग में खड़ी थी। रात के समय उस पर पहाड़ी से बोल्डर गिर गया। बस में उस वक्त कोई भी नहीं बैठा गया था।

जोशीमठ : गोविंदघाट में बसों की कमी से यात्री परेशान

हेमकुंड यात्रा पर आए श्रद्धालु वाहन नहीं मिलने से परेशान हैं। गुरुद्वारा श्री हेमकुंड साहिब मैनेजमेंट ट्रस्ट ने प्रशासन से गोविंदघाट में प्रतिदिन हरिद्वार के लिए तीन बसों को देने की मांग की है। ट्रस्ट के मुख्य प्रबंधक सरदार सेवा सिंह ने कहा कि प्रतिदिन यात्रियों को वापसी में वाहनों की उपलब्धता नहीं हो रही है। लिहाजा प्रतिदिन तीन बसों का संचालन गोविंदघाट से हरिद्वार तक होना चाहिए। कहा कि हेमकुंड साहिब व फूलों की घाटी में इन दिनों पर्यटकों और यात्रियों की संख्या बढ़ रही है, लेकिन वाहन सुविधा न होने से परेशानी हो रही है।

यह भी पढ़ें :-  उत्‍तराखंड : मानसून को देखते हुए आपदा प्रबंधन विभाग ने कसी कमर, भूस्खलन होते ही सड़क खोलने तुरंत पहुंचेगी जीपीएस युक्त जेसीबी

Edited By: Nirmala Bohra