राज्य ब्यूरो, देहरादून: प्रदेश सरकार बांडधारक डॉक्टरों पर निगरानी रखने को अब एक सेल का गठन करने की तैयारी कर रही है। यह सेल बांडधारक डॉक्टरों की गतिविधियों पर नजर रखेगा और जरूरत पड़ने पर लीगल नोटिस भेजने का कार्य इसी सेल के जिम्मे होगा।

प्रदेश में इस समय तकरीबन 350 बांडधारक डॉक्टर तैनात हैं। बांड धारक डॉक्टरों को लेकर सरकार का पुराना अनुभव बहुत अच्छा नहीं है। दरअसल, ये डॉक्टर मेडिकल की पढ़ाई तो कम फीस और सरकारी खर्च पर करते हैं लेकिन इनमें से कई अनुबंध के अनुसार प्रदेश में सेवा देने में कन्नी काट देते हैं। कई बार उच्च शिक्षा के नाम पर ये बाहर चले जाते हैं और फिर मुड़ कर वापस नहीं आते। ऐसे डॉक्टरों के बारे में विभाग को लंबे समय बाद सूचना मिल पाती है। हालांकि, सरकार ने ऐसे डॉक्टरों पर नकेल कसने को समय-समय पर कदम उठाने के साथ ही इनसे फीस वसूली जैसे सख्त कदम उठाए हैं, लेकिन इससे विभाग की मंशा फलीभूात नहीं हो पा रही है। इसे देखते हुए स्वास्थ्य महकमा अब बांड धारक डॉक्टरों पर नजर रखने के लिए एक सेल गठित करने की तैयारी कर रहा है। सेवानिवृत्त वरिष्ठ चिकित्सा अधिकारी को इस सेल की कमान सौंपी जाएगी। इस सेल के पास प्रदेश के समस्त बांड धारक डॉक्टरों का डाटा होगा। किसी भी बांड धारक की तैनाती और उपस्थिति की सूचना सेल में रहेगी। किसी भी डॉक्टर की अचानक अनुपस्थित पर जवाब तलब करने का काम सेल का होगा। यदि कोई डॉक्टर बांड तोड़कर जाने की कोशिश करता है तो यही सेल उसके खिलाफ विधिक कार्यवाही भी अमल में लाएगा। इस सेल को गठित करने का प्रस्ताव तकरीबन तैयार हो गया है और जल्द ही इसे अनुमोदित कराया जाएगा। विभाग मुख्यमंत्री की समीक्षा बैठक के दौरान इसकी रूपरेखा उनके सम्मुख रख चुका है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस