देहरादून, जेएनएन। क्रिकेट एसोसिएशन ऑफ उत्तराखंड (सीएयू) को अपनी कार्यकारिणी के चुनाव दोबारा कराने होंगे। सुप्रीम कोर्ट द्वारा नियुक्त प्रशासकों की समिति (सीओए) की ओर से जारी हुए नए फरमान के अनुरूप सभी राज्य संघों को संविधान में संशोधन कर चुनाव कराने होंगे। हालांकि सीएयू को चुनाव के लिए आम सभा को बुलाने की आवश्यकता नहीं होगी।

सीओए ने बीसीसीआइ समेत सभी राज्य संघों को विगत सोमवार नए निर्देश जारी किए हैं। इसमे दस स्पस्टीकरण शामिल है। बीसीसीआई समेत सभी राज्यों संघों को इन स्पष्टीकरण को अपने संविधान में अमल कर चुनाव कराने हैं। 

अब 14 सितंबर शनिवार को सीएयू के चुनाव संपन्न हो चुके है, लेकिन सीओए ने दो दिन बाद सोमवार को नए निर्देश जारी किए हैं। ऐसे में सीएयू को भी इन नए नियमों को अपने संविधान में शामिल कर चुनाव कराने होंगे। जानकारी के मुताबिक क्रिकेट एसोसिएशन ऑफ उत्तराखंड को सीओए ने एक मेल भेजा है।

इसमें सीओए ने एसोसिएशन को नए संविधान की गाइडलाइन भेजी है। साथ ही कहा है कि राज्य एसोसिएशन उक्त गाइडलाइन के अनुसार अपने संविधान में संशोधन कर दोबारा चुनाव कराकर भेजे। साथ ही स्पष्ट किया है कि चुनाव प्रक्रिया को अपनाते हुए ही चुनाव कराए जाएंगे। दोबारा चुनाव कराने के लिए विशेष आम सभा को बुलाने की जरूरत नहीं है। इसके लिए सीओए ने सीएयू को 28 सितंबर तक का समय दिया है।

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड की अंडर-16 क्रिकेट टीम के गढ़वाल मंडल ट्रायल में 45 खिलाड़ी शॉर्टलिस्ट

28 सितंबर से पहले कराएंगे चुनाव 

क्रिकेट एसोसिएशन ऑफ उत्तराखंड के सचिव महिम वर्मा के अनुसार, हमने चुनाव प्रक्रिया को अपनाते हुए नई कार्यकारिणी का गठन कर बीसीसीआइ को भेजा था। सीओए ने सभी राज्य संघों को विगत सोमवार को नए निर्देश जारी किए है। इस पर अमल कर 28 सितंबर से पहले चुनाव कराया जाएगा। 

यह भी पढ़ें: पिच क्यूरेटर के निरीक्षण के बाद विजय हजारे ट्रॉफी के फिक्चर में बदलाव

Posted By: Bhanu

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप