देहरादून, निशांत चौधरी। क्रिकेट एसोसिएशन ऑफ उत्तराखंड ने कोरोना वायरस के देश मे बढ़ते संक्रमण को देखते हुए प्रधानमंत्री फंड में 50 लाख रुपये की धनराशि दान की है। ऐसा कर सीएयू ने वर्षो पहले वजूद में आए सभी खेल संघों के समक्ष एक उदाहरण प्रस्तुत किया है। सीएयू को बीसीसीआइ से मान्यता मिले अभी ठीक से एक साल भी नहीं हुआ है। ऐसे में सीएयू ने अपने कोष को मजबूती देने के बजाय इस समय देश की विकट परिस्थितियों में मदद करना जरूरी समझा। 

राष्ट्रहित के लिए इस सार्थक सोच के साथ क्रिकेट एसोसिएशन ऑफ उत्तराखंड ने प्रधानमंत्री राहत फंड में 50 लाख रुपये दान किए हैं। इसके अलावा बीसीसीआइ उपाध्यक्ष व सीएयू के सचिव महिम वर्मा ने देश व प्रदेश के खिलाड़ियों से इस संकट के समय में सरकार व अपने पड़ोसियों की भी हर सम्भव मदद करने का आग्रह किया है। जिससे इस महामारी से मजबूती से लड़ जा सके।

पांच करोड़ से खिलाड़ियों को उम्मीद

बीसीसीआइ जल्द ही क्रिकेट एसोसिएशन ऑफ उत्तराखंड को सालाना मिलने वाला फंड जारी करने जा रही है। इसमें सीएयू को पांच करोड़ की बड़ी धनराशि मिलेगी। यह पैसा मिलने के बाद उत्तराखंड के क्रिकेटरों को सीएयू से उम्मीदें और भी बढ़ जाएंगी। 

दरअसल, सीएयू ने मान्यता मिलने के बाद खिलाड़ियों के हित में कई फैसले लिए थे। जिनमें कॉन्ट्रेक्ट योजना, स्कॉलरशिप योजना शामिल थे। अब जब सीएयू को बीसीसीआइ से मिलने वाला सालाना फंड मिल जाएगा तो खिलाड़ियों को इन योजनाओं को धरातल पर उतारना आसान होगा। 

सीएयू को भी बिना कोई देर किए इन योजनाओं का लाभ खिलाड़ियों तक पहुंचाना चाहिए। जिससे उनकी आर्थिक स्थिति मजबूत हो और वह अपने खेल पर पूरी तरह फोकस कर सकें। इससे उत्तराखंड के हित में बेहतर परिणाम सामने आएंगे। वहीं सीएयू के पास कार्यकारिणी अधूरी होने का भी बहाना नहीं है। क्योंकि क्रिकेट एसोसिएशन ऑफ उत्तराखंड को नया सचिव मिल चुका है।

स्पोर्ट्स कॉलेज के भी प्रवेश टले 

कोरोना वायरस के संक्रमण का असर स्पोर्ट्स कॉलेज के प्रवेश चयन ट्रायल पर भी पड़ा है। महाराणा प्रताप स्पोर्ट्स कॉलेज देहरादून और हरि सिंह थापा स्पोर्ट्स कॉलेज पिथौरागढ़ में शैक्षिक सत्र 2020-21 में विभिन्न खेल विधाओं में प्रवेश के लिए चयन-ट्रायल प्रक्रिया पांच अप्रैल से शुरू होनी थी। 

इसके लिए तीन चरणों में प्रदेशभर में ट्रायल रखे गए थे। विभिन्न जनपदों से चयनित हुए खिलाड़ियों के अंतिम चयन ट्रायल मई के दूसरे सप्ताह में देहरादून में आयोजित होने थे। लेकिन कोरोना वायरस के चलते पूरे देश में 14 अप्रैल तक लॉकडाउन घोषित है। ऐसे में कॉलेज प्रबंधन ने अगले आदेश तक प्रवेश चयन ट्रायल को स्थगित कर दिया है। 

इससे कही न कहीं शैक्षिक सत्र 2020-21 पर असर पड़ेगा। क्योंकि अप्रैल से प्रवेश प्रक्रिया शुरू होने के बाद जुलाई से खिलाड़ियों की क्लासेस व ट्रेनिंग चलती थी। लेकिन कोरोना महामारी के कारण इस बार सत्र में विलंब हो सकता है।

मदद को उठे खिलाड़ियों के हाथ 

कोरोना वायरस महामारी बनकर विश्व में फैल रहा है। इसके संक्रमण से हजारों लोग मौत के मुंह में समा चुके हैं। ऐसी विकट परिस्थितियों में केंद्र सरकार ने 14 अप्रैल तक देश भर में लॉकडाउन की घोषणा कर दी है। खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आम व खास जनों से इस विकट परिस्थिति में मदद करने की अपील की है। ऐसे में उत्तराखंड के खिलाड़ी व कोच मदद के लिए सामने आ रहे हैं। 

यह भी पढ़ें: क्रिकेट एसोसिएशन ऑफ उत्तराखंड को पांच करोड़ रुपये जारी करेगा बीसीसीआइ

उत्तराखंड के क्रिकेटरों और कोचों ने दरियादिली का परिचय देते हुए मुख्यमंत्री राहत कोष में धनराशि जमा कराई है। जिससे प्रदेश में कोरोना के वायरस के कारण प्रभावित हो रहे लोगों की मदद की जा सकें। साथ ही स्वास्थ्य व्यवस्था जुटाने में मदद हो सके। इस पहल से अन्य खिलाड़ियों व प्रशिक्षकों को भी इनसे सीख लेने की जरूरत है। इस महामारी में सभी को गरीब और असहाय लोगों की मदद को आगे आना ही चाहिए।

यह भी पढ़ें: Coronavirus: कोरोना को हराने के लिए खेल परिसरों में पसरा सन्नाटा

Posted By: Bhanu Prakash Sharma

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस