राज्य ब्यूरो, देहरादून। कैबिनेट मंत्री डा धन सिंह रावत ने अपने सभी विभागों उच्च शिक्षा, सहकारिता, स्वास्थ्य एवं आपदा प्रबंधन विभागों की संयुक्त समीक्षा की। उन्होंने मुख्यमंत्री की घोषणा से संबंधित प्रस्तावों को प्राथमिकता के आधार पर तैयार करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि इन प्रस्तावों को 24 सितंबर को मंत्रिमंडल की बैठक में रखा जाएगा।

सचिवालय में डीएमएमसी सभागार में मंगलवार को समीक्षा बैठक में कैबिनेट मंत्री डा रावत ने कहा कि मुख्यमंत्री ने नए डिग्री कालेजों स्थापना और उच्चीकरण के साथ नए पदों का सृजन करने की घोषणा की है। घोषणा को अमल में लाने के लिए विभाग से जल्द प्रस्ताव तैयार करने को कहा गया है। इसी तरह सहकारिता विभाग के अंतर्गत पैक्स सचिवों की नियमावली, सहकारिता विभाग के ढांचे का प्रस्ताव तैयार किया जाएगा।

गोल्डन कार्ड नियमावली में होगा संशोधन

उन्होंने बताया कि स्वास्थ्य विभाग के तहत गोल्डन कार्ड नियमावली में संशोधन और आपदा एवं पुनर्वास विभाग में संविदा कार्मिकों को तीन वर्ष के लिए समय विस्तार संबंधी नियमावली बनाई जानी है। कम्युनिटी रेडियो की स्थापना, आपदा विभाग का ढांचा व विस्थापितों के लिए पुनर्वास नीति में संशोधन प्रस्ताव को मंत्रिमंडल की बैठक रखा जाएगा। बैठक में सहकारिता सचिव आर मीनाक्षी सुंदरम, कार्मिक सचिव अरविंद सिंह ह्यांकि, आपदा प्रबंधन व पुनर्वास सचिव एसए मुरुगेशन, वित्त सचिव वी षणमुगम, उच्च शिक्षा सचिव दीपेंद्र चौधरी समेत कई अधिकारी मौजूद रहे।

---------------------------------------

शिक्षा मंत्री ने 14 शिक्षकों को जारी किए नियुक्ति पत्र

शिक्षा मंत्री अरविंद पांडेय ने मंगलवार को बागेश्वर जिले में चयनित 14 प्राथमिक शिक्षकों के नियुक्ति पत्र जारी किए। प्रदेश में प्राथमिक शिक्षकों के रिक्त 2648 पदों पर जिलेवार भर्ती प्रक्रिया प्रारंभ हो चुकी है। शिक्षा मंत्री अरविंद पांडेय ने भर्ती प्रक्रिया जल्द संपन्न कर शिक्षकों को नियुक्ति पत्र 10 दिन के भीतर जारी करने के निर्देश दिए थे। विभागीय मंत्री के निर्देशों पर अमल प्रारंभ कर दिया गया है। शिक्षा मंत्री ने नियुक्ति पत्र जारी करने के साथ ही नए शिक्षकों को शुभकामनाएं दीं। साथ में शिक्षा की गुणवत्ता में उनसे सहयोग भी मांगा।

यह भी पढ़ें:- एक साल से सेवा नियमावली पर फैसला नहीं, बीते वर्ष जून में कैबिनेट मंजूर कर चुकी है संवर्ग का ढांचा

Edited By: Sunil Negi