देहरादून, [जेएनएन]: मुन्नी देवी के विधायक निर्वाचित होने के बाद चमोली के जिला पंचायत अध्यक्ष की कुर्सी को लेकर चल रही रस्साकस्सी को विराम लग गया है। जिला पंचायत उपाध्यक्ष लखपत बुटोला ने एकतरफा चार्ज ग्रहण किया है। उन्होंने कहा कि जिला पंचायत राज एक्ट के नियमों के तहत उन्होंने जिला पंचायत की कमान संभाली है। वहीं, निवर्तमान अध्यक्ष व थराली की भाजपा विधायक मुन्नी देवी ने इसे गलत बताया है। 

जिला पंचायत के अपर मुख्य अधिकारी ने बताया कि पंचायत राज एक्ट के तहत चार्ज दिलवाया गया है। वहीं विधायक मुन्नी देवी ने एकतरफा चार्ज लेने को गलत बताया। कहा कि वे विधायक पद की शपथ लेते ही खुद ही इस्तीफा दे देती।

कोठली से सदस्य मुन्नी देवी का निर्वाचन जिला पंचायत अध्यक्ष पर चार अगस्त 2014 को हुआ था। अभी जिला पंचायत अध्यक्ष का कार्यकाल एक साल बचा है। विधायक के पति की मौत के बाद उपचुनाव में थराली विधायक पद पर मुन्नी देवी का 31 मई को निर्वाचन हुआ था। वह जिला पंचायत के अध्यक्ष पद पर भी वर्तमान समय तक विराजमान थी। 

जिला पंचायत के उपाध्यक्ष तथा कांग्रेस के प्रदेश प्रवक्ता लखपत बुटोला ने जिला पंचायत के अपर मुख्य अधिकारी से उन्हें चार्ज देने की बात कही थी। उन्होंने जिला पंचायत अध्यक्ष के निर्वाचन का गजट नोटिफिकेशन का हवाला देते हुए कहा कि पंचायत राज एक्ट में दो पदों पर नहीं बने रहने का नियम है। ऐसे में उन्होंने उपाध्यक्ष को नियमानुसार चार्ज लेने की बात कही थी। 

जिला पंचायत ने इस पर कानूनी राय भी ली थी। जिला पंचायत के कार्यवाहक अध्यक्ष लखपत बुटोला ने कहा कि पंचायत राज अधिनियम के अनुसार 27 क के अनुसार कोई व्यक्ति कहीं अन्य निर्वाचित होता है तो जिला पंचायत पद पर निर्वाचन स्वत: ही अवैध माना जाएगा। 

बुटोला ने निवर्तमान अध्यक्ष मुन्नी देवी को विधायक बनने की बधाई देते हुए कहा कि उन्होंने नियमानुसार विधायक के निर्वाचन के बाद पद से इस्तीफा दे देना चाहिए था। 

एक्ट के अनुसार कराया पदभार ग्रहण 

चमोली जिला पंचायत के अपर मुख्य अधिकारी एमएस राणा के अनुसार जिला पंचायत अध्यक्ष पद पर पदभार ग्रहण करने की सूचना जिलाधिकारी सहित शासन प्रशासन को भेज दी गई है। पंचायत राज एक्ट के अनुसार कानूनी राय लेने के बाद पदभार ग्रहण किया गया। 

एकतरफा चार्ज लेना लगत 

जिला पंचायत चमोली की निवर्तमान मुन्नी देवी के अनुसार जिला पंचायत में डीपीसी मेंबर के चुनाव के चलते आचार संहिता लगी हुई थी, जो आज ही हटी है। उनके द्वारा मुख्यमंत्री को विधायकी की शपथ के लिए पूर्व में ही पत्र लिखा जा चुका है, जल्द ही शपथ ग्रहण है। शपथ ग्रहण के बाद में जिला पंचायत अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे देती। लेकिन उनके इस्तीफे के बगैर एकतरफा चार्ज नियमानुसार गलत है। 

उत्तरकाशी जिला पंचायत में फिर मचा घमासान

जिला योजना समिति सदस्य चुनाव के बाद एक बार फिर से उत्तरकाशी जिला पंचायत सदस्यों और अध्यक्ष के बीच गुटबाजी सामने आई है। 11 सदस्यों ने जिपं अध्यक्ष व एएमए पर जिला निधि व राज्य निधि धनराशि मनमाने ढंग से खर्च करने के आरोप लगाए। 

जिलाधिकारी को शिकायत करने वाले सदस्यों ने कहा कि जिपं अध्यक्ष व अपर मुख्य अधिकारी जिला निधि व राज्य वित्त की धनराशि का दुरुपयोग कर रहे हैं। आरोप लगाया गया है कि दस लाख से अधिक वाले कार्यों के लिए शासन से स्वीकृति नहीं ली गई है। गंगनानी व गडोली में जो अनुबंध जिपं ने किए हैं उनकी जांच होनी चाहिए। 

इसके साथ ही सदस्यों ने कहा कि जिला पंचायत उनके क्षेत्र की उपेक्षा कर रहा है। अध्यक्ष व एएमए पूरी योजनाओं को मोरी, पुरोला व नौगांव में दे रहे हैं। उन्होंने जिलाधिकारी से इसकी जांच की मांग की है। 

वहीं, जिलाधिकारी डॉ. आशीष चौहान ने बताया कि सदस्यों की ओर से जो शिकायती पत्र आया था उसकी जांच के निर्देश सीडीओ को दिए गए हैं। 

ज्ञापन देने वालों में जिपं सदस्य पवन नौटियाल, जोगेंद्र सिह रावत, अनिता बिष्ट, पूनम शाह, प्रकाश चंद रमोला, दीपक बिजल्वाण, विमला नौटियाल, लक्ष्मण ङ्क्षसह भंडारी, सरीता राणा, विमला रावत, जितेंद्र रावत आदि थे। 

हार के बाद बौखला गए कुछ सदस्य 

जिला पंचायत अध्यक्ष जशोदा राणा के अनुसार डीपीसी चुनाव में हार के बाद कुछ सदस्य बौखला गए हैं। ऐसे लोग सरकारी कार्यों में बाधा डालने की कोशिश कर रहे हैं। जहां तक इन सदस्यों के क्षेत्रों की योजनाओं की बात है, तो इन्होंने कोई योजना बोर्ड बैठक में नहीं रखी। कुछ सदस्य बोर्ड बैठक में पहुंचते ही नहीं हैं। गडोली व गंगनानी में धन का दुरुपयोग नहीं बल्कि जिपं की संपत्ति बढ़ रही है। 

अध्यक्ष के गुट ने मारी बाजी 

जिला योजना समिति सदस्य के चुनाव में जिपं अध्यक्ष जशोदा राणा के गुट ने बाजी मारी। चार सदस्यों के निर्वाचन के लिए 9 सदस्यों ने नामांकन किए थे। वोटिंग के बाद जिला निर्वाचन अधिकारी ने सुनीता देवी, रेवती राणा, प्रकाश देवनाटा व भगत सिंह को विजयी घोषित किया।

यह भी पढ़ें: बरसात पीड़ितों की अनदेखी पर भड़के कांग्रेसी, तहसील में किया प्रदर्शन

यह भी पढ़ें: चिकित्सकों की मांग को लेकर काशीपुर अस्पताल में गरजे कांग्रेसी

यह भी पढ़ें: मलिन बस्तियों के लोगों के मालिकाना हक को लेकर कांग्रेसियों ने किया प्रदर्शन

Posted By: Bhanu