देहरादून, राज्य ब्यूरो। गैरसैंण में तीन मार्च से शुरू होने वाला विधानसभा का बजट सत्र प्लास्टिक मुक्त होगा। सत्र के दौरान पानी की प्लास्टिक की बोतलें भी प्रतिबंधित होंगी। आरओ से पेयजल व्यवस्था की जाएगी।

विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल ने विधानसभा में बजट सत्र के दौरान सुरक्षा समेत अन्य व्यवस्थाओं को लेकर आयोजित बैठक के बाद यह जानकारी दी। विधानसभा अध्यक्ष अग्रवाल ने कहा कि सत्र के दौरान सुरक्षा के सभी पहलुओं पर चर्चा की गई। सत्र के पहले दिन राज्यपाल का अभिभाषण होना है। राज्यपाल के आगमन व प्रस्थान के वक्त हेलीपैड से लेकर विधानभवन तक पुख्ता सुरक्षा रहेगी। 

इसके अलावा मुख्यमंत्री, मंत्रियों, विस अध्यक्ष समेत पूरे परिसर में सुरक्षा व्यवस्था चाक-चौबंद रहेगी। उन्होंने बताया कि दिवालीखाल से लेकर भराडीसैंण (गैरसैंण) स्थित विधानभवन परिसर तक चप्पे-चप्पे पर सुरक्षा कर्मी तैनात रहेंगे। इसके अलावा क्षेत्र में विभिन्न स्थानों पर 11 सीसीटीवी कैमरे लगाए जा रहे हैं। अग्निशमन दल भी भराड़ीसैंण में मौजूद रहेगा। 

विस अध्यक्ष ने बताया कि सत्र के दौरान पेयजल, विद्युत, भोजन, स्वास्थ्य, शौचालय समेत सभी व्यवस्थाएं चाक-चौबंद रहें, इसके लिए अधिकारियों को निर्देशित किया गया है। उन्होंने जानकारी दी कि सत्र के दौरान नेटवर्क, इंटरनेट व वाई-फाई व्यवस्था को दुरुस्त रखने के मद्देनजर एक-दो दिन में ओएफसी बिछ जाएगी। 

यह व्यवस्था दुरुस्त रहने से कार्यों के सुचारु संचालन में मदद मिलेगी। नेटवर्क एवं वाई-फाई की व्यवस्था अच्छी रहेगी तो सदन के कार्यों में विभाग एवं शासन जिलों के साथ ही सचिवालय से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए तुरंत संपर्क साधकर तीव्रता लाई जा सकेगी। उन्होंने बताया कि इस मर्तबा ये भी व्यवस्था की जा रही कि अनुमन्य अधिकारी ही सत्र में जाएं। बैठक में मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह, पुलिस महानिदेशक अनिल रतुड़ी समेत विभिन्न विभागों के अधिकारी मौजूद थे। 

पेन ड्राइव में बजट का मसौदा 

विस अध्यक्ष ने बताया कि इस मर्तबा बजट सत्र के दौरान बजट का मसौदा सभी को पेन ड्राइव में उपलब्ध कराया जाएगा। डॉक्टर रहेंगे मौजूद स्वास्थ्य सुविधा के मद्देनजर भराड़ीसैंण में डॉक्टर तैनात रहेंगे। साथ ही नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र भी अलर्ट पर रहेंगे। आइसीयू यूनिट भी भराड़ीसैंण में रहेगी। विस अध्यक्ष ने बताया कि व्यवस्था का जायजा लेने विस सचिव जगदीश चंद्र गैरसैंण रवाना हो गए हैं। 

यह भी पढ़ें: Uttarakhand Cabinet Meet: नगर पालिकाओं-नगर पंचायतों में भी स्वकर, जानिए अन्य फैसले

अब तक 653 सवाल 

विस अध्यक्ष ने बताया कि सत्र के लिए अब तक विधायकों के 653 सवाल आए हैं। अल्पसूचित प्रश्न 63 मिले हैं, जबकि 22 याचिकाएं प्राप्त हुई हैं।

यह भी पढ़ें: Delhi violence: दिल्ली हिंसा पर पहली बार बोले उत्तराखंड के सीएम, ये देश को बदनाम करने की कोशिश

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस