जागरण संवाददाता, ऋषिकेश। आपातकाल की बरसी पर भारतीय जनता पार्टी ने काला दिवस मनाया। तीर्थनगरी ऋषिकेश में इस घटना को याद करते हुए पार्टी कार्यकर्ताओं ने हाथ में काली पट्टी बांध कर अपना विरोध जाहिर किया। इंदिरा सरकार में लगाए गए आपात काल के विरोध में भाजपा की जिला इकाई ने त्रिवेणी घाट स्थित गांधी स्तंभ पर जिला मंत्री पंकज शर्मा के नेतृत्व में अपनी बाह पर काली पट्टी बांध कर सांकेतिक विरोध जाहिर किया।

इस दौरान कार्यक्रम में प्रमुख रूप से मौजूद रही नगर निगम महापौर अनीता ममगाईं ने कहा कि 25 जून, 1975 का दिन भारत के इतिहास में हमेशा काले दिन के तौर पर याद किया जाएगा।उन्होंने कहा कि आपातकाल देश के इतिहास का काला दिन है। ये दिन याद दिलाता है कि किस तरह कांग्रेस सरकार ने दमनकारी नीति के तहत लोगों में डर पैदा किया और अपनी सरकार बचाने के लिए मनमानी की। भाजपा के जिला मंत्री पंकज शर्मा ने कहा कि आपातकाल के दौरान लोकतंत्र के लिए लड़ने वालों को देश कभी नहीं भूलेगा।

इस दौरान अनीता रैना, विजय बडोनी, चेतन शर्मा, अक्षय खैरवाल, प्रकांत कुमार, पवन शर्मा, मदन कोठारी, शरद तायल, नवल कपूर, विनोद शर्मा, अजय कालड़ा, मदन कोठारी, रमेश अरोड़ा, चेतन शर्मा, राजपाल ठाकुर, राजीव गुप्ता आदि मौजूद रहे। उधर, भारतीय जनता पार्टी ऋषिकेश मंडल ने पार्टी कार्यालय में मंडल अध्यक्ष दिनेश सती की अध्यक्षता में गोष्ठी का आयोजन किया।

इस अवसर पर प्रदेश उपाध्यक्ष कुसुम कंडवाल, सरोज डिमरी इंद्र कुमार गोदवानी, कपिल गुप्ता, सुदेश कंडवाल, अनिल ध्यानी, उषा जोशी, अनीता तिवारी, ऋषि राजपूत आदि ने विाचार व्यक्त किए। भाजपा वीरभद्र मंडल की ओर से मंडल अध्यक्ष अरविंद चौधरी की अध्यक्षता में विचार गोष्टी का आयोजन किया गया। इस अवसर पर मुख्य वक्ता मेश चंद शर्मा ने इमरजेंसी के पहलुओं पर विचार व्यक्त किया। इस अवसर पर मंडल महामंत्री एवं पार्षद सुंदरी कंडवाल, पीयूष अग्रवाल, भारत चौहान, राजेश थपलियाल आदि मौजूद रहे।

वहीं भाजपा श्यामपुर मंडल ने आपातकाल में जेल गए विद्युत नारायण त्रिपाठी, उमाकांत नायक को सम्मानित किया गया। इस अवसर पर मण्डल अध्यक्ष गणेश रावत, राम रतन रतूड़ी, राजेश जुगलान, नीलम चमोली आदि मौजूद रहे।

यह भी पढ़ें- Uttarakhand By Election: उपचुनाव पर तीरथ बेफिक्र, पक्ष-विपक्ष में लट्ठमलट्ठ

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

Edited By: Raksha Panthri