राज्य ब्यूरो, देहरादून। भाजपा के राष्ट्रीय महामंत्री बीएल संतोष ने कार्यकर्त्‍ताओं से अपेक्षा की कि वे बिना किसी अपेक्षा से कार्य करें। संगठन उनका मूल्यांकन स्वयं करता है। भाजपा महिला मोर्चा की राष्ट्रीय कार्यसमिति के समापन सत्र को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि हम अपनी तुलना किसी से न करें। संगठन के पास हजारों कार्यकर्त्‍ता हैं। किसी की कुछ विशेषता है तो किसी की कुछ। संगठन किसे कौन सा दायित्व सौंपता है, यह उसके प्रज्ञा की बात है। इसलिए तुलना करना ठीक नहीं है। हमें अपने काम को प्रभावी बनाना है।

स्थानीय एक होटल में आयोजित कार्यसमिति की बैठक के समापन पर उन्होंने मोर्चा कार्यकर्त्‍ताओं के प्रश्नों के उत्तर भी दिए। आरक्षण से जुड़े प्रश्न पर उन्होंने कहा कि हमें महिलाओं को 33 नहीं, बल्कि 57 फीसद आरक्षण देना है, लेकिन इसमें वक्त लगेगा। गठबंधन सरकारों से जुड़े प्रश्न पर उन्होंने कहा कि हम संगठन को यथोचित समय दें, लेकिन यह ध्यान रखें कि हमारे कार्य से परिवार प्रभावित न हों। पार्टी और परिवार में सामंजस्य बना रहना चाहिए। हम संगठन के लिए परिवार से मिलकर कार्य करें, ताकि परिवार भी पले और संगठन भी चलता रहे।

केंद्रीय राज्यमंत्री दर्शना जरदोश ने कहा कि हमें संयुक्त महिला टीम के रूप में कार्य करना होगा। मोर्चा पदाधिकारियों को सप्ताह में दो दिन बैठक करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि 21वीं सदी महिलाओं की होगी और वह नेतृत्व करने में पूर्ण रूप से सक्षम होगी। भाजपा की राष्ट्रीय महासचिव डी पुरंदेश्वरी ने कहा कि विपक्ष के नेता वर्षों से महिला सशक्तीकरण के नारे लगाते रहे, मगर असली सशक्तीकरण का कार्य प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने किया। महिला मोर्चा की राष्ट्रीय अध्यक्ष वनाथी श्रीनिवासन ने भी विचार रखे।

इससे पहले बैठक में मोर्चा की सभी 37 सांगठनिक प्रदेश इकाइयों के कामकाज की रिपोर्ट पेश की गई। इस मौके पर भाजपा के प्रदेश प्रभारी दुष्यंत कुमार गौतम, प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक, महिला मोर्चा की राष्ट्रीय महामंत्री इंदुबाला गोस्वामी, दीप्ति रावत, सुखप्रीत कौर, प्रदेश अध्यक्ष ऋतु खंडूड़ी, कैबिनेट मंत्री डा धन सिंह रावत आदि मौजूद थे।

यह भी पढ़ें:-केंद्रीय मंत्री दर्शना जरदोश ने कहा-प्रत्येक भाजपा कार्यालय में खुलेगा '4-ई केंद्र'

Edited By: Sunil Negi