जागरण संवाददाता, देहरादून :

11वें वेतन समझौते समेत अन्य मांगों को लेकर बैंक कर्मियों ने एस्लेहाल स्थित सेंट्रल बैंक के बाहर केंद्र सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया। प्रदर्शनकारियों का कहना है कि उनकी मांगों को केंद्र सरकार लगातार नजर अंदाज कर रही है। जिसका पुरजोर विरोध किया जाएगा।

यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियंस के बैनर तले गुरुवार को प्रदर्शन करते हुए यूएफबीयू के संयोजक समदर्शी बड़थ्वाल ने कहा कि मुख्य श्रम आयुक्त के बार-बार दखल के बावजूद केंद्र सरकार और आइबीए बैंक कर्मियों की मांगों पर कोई सकारात्मक रुख नहीं दिखा रही है। उन्होंने कहा कि बैंकों द्वारा हर वर्ष करीब डेढ़ लाख करोड़ का सकल लाभ कमाया जा रहा है। लेकिन इसके बावजूद बैंक कर्मियों की मांगों पर सुनवाई नहीं हो रही है। चेतावनी दी कि अगर उनकी मांगों पर जल्द कार्रवाई नहीं हुई तो 11 से 13 मार्च तक बैंक कर्मी देशव्यापी हड़ताल पर रहेंगे। इसके बाद एक अप्रैल से अनिश्चतकालीन हड़ताल शुरू कर दी जाएगी। प्रदर्शन करने वालों में आरसी उनियाल, आरपी शर्मा, नवीन कुमार, एसएस रजवार, विनय शर्मा, वीके बहुगुणा, सीके जोशी, विनोद कुमार, दीपा शर्मा, दीपक नेगी समेत अन्य मौजूद रहे।

बैंक कर्मियों की ये है मांगें:

विशेष भत्ते को मूल वेतन में किया जाए मर्जर, पेंशन का अपग्रेडेशन, पारिवारिक पेंशन में बढ़ोत्तरी, न्यू पेंशन स्कीम को रद किया जाना, सभी शाखाओं को एक समान कारोबार अवधि तय की जाए, बैंक अधिकारियों के लिए नियत कार्य अवधि तय करना, पांच दिवसीय बैंकिंग, समान काम के लिए समान वेतन, सेवानिवृत लाभों को आयकर की सीलिंग से मुक्त करना शामिल है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस