जागरण संवाददाता, विकासनगर: वीर शहीद केसरीचंद राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय में बुधवार को एबीवीपी व बागियों के बीच नोकझोंक हो गई। विवाद इतना बढ़ा कि जमकर लात-घूंसे चल गए। आरोप है कि एबीवीपी कार्यकर्ताओं ने वर्तमान छात्र संघ अध्यक्ष से मारपीट की। दोनों पक्षों के बीच हुई मारपीट में कई चोटिल हुए। इस मामले में एबीवीपी की तरफ से दो व दूसरे पक्ष की ओर से दो लोगों ने तहरीर दी है।

एबीवीपी से बागी होकर निर्दलीय चुनाव जीतने वाले महाविद्यालय के छात्र संघ अध्यक्ष सलमान निवासी जीवनगढ़ ने चौकी में दी गई तहरीर में आरोप लगाया कि महाविद्यालय में दोपहर करीब एक बजे शुभम कश्यप, शुभम गर्ग, गौरव रोहिला, चंद्रकांत अग्रवाल, सुमित टौंक, सर्वजीत ने उन्हें जाति सूचक शब्दों से संबोधित किया। साथ ही गाली-गलौज व मारपीट की और धमकी दी कि कॉलेज में दोबारा हमें दिखाई दिया तो जान से मार देंगे। गाली गलौज करने वालों ने खुद को पूर्व विधायक कुलदीप कुमार का समर्थक बताया। जब बीच बचाव करने सुरेंद्र चौहान आए तो उनके साथ भी मारपीट की गई। वहीं, छात्रसंघ अध्यक्ष सलमान के पक्ष में छात्र नेता भाग्यश्री ने कहा कि चुनाव के दौरान भी बद्रीपुर क्षेत्र में शुभम कश्यप ने गाली-गलौज की और वहां पर प्रचार करने रोका था। साथ ही उसे अपनी दो साथियों सेजल व दिव्या से पिटवाने की धमकी दी। बुधवार को जब वह कॉलेज आई तो कॉलेज में शुभम गर्ग व शुभम कश्यप ने उसे धमकाया। जब यह बात सुरेंद्र चौहान को बताई तो धमकी देने वालों सुमित, गौरव, चंद्रकांत आदि सुरेंद्र चौहान के साथ गाली-गलौज करने लगे। बीच बचाव करने पर छात्रसंघ अध्यक्ष सलमान के साथ मारपीट की गई।

उधर, अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के शुभम ने चौकी में तहरीर दी कि वह बुधवार को राजकीय महाविद्यालय परिसर में बैठा था, तभी उस पर सुरेंद्र चौहान, भूपेंद्र चौहान, प्रेमचंद नौटियाल, राशिद, भजराम शर्मा आदि ने हमला कर दिया, मारपीट व गाली गलौज के साथ ही जान से मारने की धमकी दी। मारपीट करने वालों ने धमकी दी कि जहां पर भी मिलेगा जान से मार देंगे। वहीं, एबीवीपी की दिव्या राणा ने चौकी में दी तहरीर में कहा कि वह कॉलेज में एबीवीपी के छात्र संघ पदाधिकारियों का प्रचार कर रही थी तो प्रचार के दौरान सुरेंद्र चौहान अपने साथ भजराम, प्रेमचंद आदि को लाया और उसके साथ अभद्र व्यवहार किया, जब विरोध किया तो वे मारपीट पर उतर आई। हमला करने वालों ने खुद को विधायक मुन्ना चौहान का समर्थक बताते हुए भाग निकले। एबीवीपी व बागियों के बीच झगड़ने में चौकी में चार तहरीरें आने पर पुलिस ने जांच शुरू कर दी है। उधर, कोतवाल महेश जोशी के अनुसार आरोपों की जांच की जा रही है। जांच के बाद नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी।

Posted By: Jagran