देहरादून, [अंकुर अग्रवाल]: रोडवेज में 367 संविदा परिचालकों की नियुक्ति पर परिवहन निगम मुख्यालय द्वारा रोक लगा दी है। गत 12 अप्रैल को प्रदेश के तीनों रोडवेज मंडल देहरादून, नैनीताल व टनकपुर में इन परिचालकों को नियुक्ति देने के आदेश हुए थे। मंडल के बाद हर डिपो पर परिचालकों की नियुक्ति गतिमान थी कि प्रबंध निदेशक बृजेश कुमार संत ने शनिवार को इनकी नियुक्ति पर तत्काल रोक लगाने के आदेश दे दिए। इसके पीछे की वजह मुख्य सचिव का 27 अप्रैल को जारी पत्र बताया जा रहा, जिसमें प्रदेश के सभी विभागों और निगमों में संविदा पर किसी कार्मिक की नियुक्ति न करने के आदेश दिए गए हैं। 

परिवहन निगम ने शासन की अनुमति के बाद पिछले साल अक्टूबर में संविदा पर 424 परिचालकों की भर्ती की प्रक्रिया शुरू की थी। नवंबर में इनकी लिखित परीक्षा ली गई व फरवरी में रिजल्ट के बाद साक्षात्कार लिया गया। मेरिट के आधार पर इनमें 367 आवेदक ही परिचालक के लिए उत्तीर्ण हो पाए। 12 अप्रैल को महाप्रबंधक (प्रशासन व कार्मिक निधि यादव ने) देहरादून मंडल में 175, नैनीताल में 162 और टनकपुर में 30 संविदा परिचालकों का आवंटन आदेश जारी किया था। मंडलीय प्रंबधकों ने इन्हें डिपोवार आवंटित किया। नियुक्ति डिपो के सहायक महाप्रबंधकों की ओर से दी जानी थी। आवंटन के आदेश के बाद दस्तावेजी प्रक्रिया चल ही रही थी कि सरकार ने हर विभाग में संविदा पर रोक लगा दी। 

मुख्य सचिव उत्पल कुमार की ओर से 27 अप्रैल को जारी आदेश में चेतावनी दी गई है कि यदि किसी अधिकारी ने संविदा पर किसी कार्मिक को नियुक्ति दी तो उससे संबंधित रिकवरी अधिकारी के वेतन और पेंशन से की जाएगी। रोडवेज में अभी तक एक भी डिपो ऐसा नहीं है, जिसमें संविदा के नए परिचालक को नियुक्ति दी गई हो। ऐसे में मुख्य सचिव का आदेश रोडवेज में भी मान्य माना गया।

इसी आधार पर प्रबंध निदेशक बृजेश कुमार संत ने सभी डिपो के सहायक महाप्रबंधकों को आदेश जारी कर संविदा परिचालकों की नियुक्ति पर रोक लगा दी। प्रबंध निदेशक की ओर से सचिव परिवहन को पत्र भेजकर दिशा-निर्देश मांगे गए हैं। वहीं, प्रबंध निदेशक के आदेश से उन परिचालकों को तगड़ा झटका लगा है, जिन्होंने परीक्षा-साक्षात्कार के नियुक्ति की तैयारी कर ली थी। 

यह भी पढ़ें: 10 लाख परिवारों के पास जॉब कार्ड, रोजगार मिला इतने कम लोगों को

यह भी पढेें: सात साल में उत्‍तराखंड के इतने गांव बने घोस्ट विलेज

यह भी पढ़ें: 1000 घोस्ट विलेज हैं यहां, तीन लाख घरों पर ताले; कागजों में योजनाएं

Posted By: Raksha Panthari

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप