जागरण संवाददाता, देहरादून : मानदेय न मिलने से आंगनबाड़ी कार्यकत्री सेविका मिनी कर्मचारी संगठन ने नाराजगी जताई है। साथ ही सरकार से 15 दिन के भीतर मांग पर सकारात्मक कार्रवाई की मांग की है। कहा कि इसके बाद भी मांग पर कार्रवाई न की गई तो आंदोलन शुरू कर दिया जाएगा।

बुधवार को लैंसडौन चौक स्थित एक होटल में पत्रकारों से बातचीत में संगठन की केंद्रीय प्रभारी सुमति थपलियाल ने कहा कि लंबे समय से आंगनबाड़ी कार्यकत्र्ताओं को मानदेय न मिलने से उनकी आर्थिक स्थिति खराब हो गई है। इसके अलावा ग्रामसभा में किराये पर संचालित हो रहे आंगनबाड़ी भवन का बजट जारी नहीं किया गया।

आंगनबाड़ी में बच्चों को वितरित किए जाने वाले पौष्टिक आहार को कार्यकत्र्ताओं को केंद्र तक पहुंचाना पड़ रहा है। सुपरवाइजर के खाली पदों पर नियुक्ति का शासनादेश नहीं निकाला गया। आंगनबाड़ी केंद्रों को प्री प्राइमरी किए जाने एवं कार्यकत्र्ता का मानदेय बढ़ाए जाने का शासनादेश निकाला जाए। कहा सभी मांगों को लेकर शासन, सरकार के प्रतिनिधियों के चक्कर काट चुके हैं। इस मामले में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी को भी कई बार अवगत कराया जा चुका है।

बावजूद कोई कार्रवाई नहीं की जा रही है। कहा 15 दिन के भीतर मांग पूरी नहीं की गई, तो प्रदेश भर में उग्र आंदोलन किया जाएगा। इस मौके पर संगठन की अध्यक्ष रेखा नेगी, सुनीता भट्ट, उमेश धीमान, पुष्पा सजवाण, आशा भट्ट, राजश्री रतूड़ी, मीना रावत, बसंता रावत, रविता चौहान, ऊषा गोस्वामी आदि मौजूद रही।

एसीपी का लाभ न मिलने से बिजली कार्मिक नाराज

देहरादून: उत्तराखंड विद्युत अधिकारी कर्मचारी संयुक्त संघर्ष मोर्चा मुख्यमंत्री के साथ किए गए समझौते के बाद भी मांगों पर कार्रवाई न होने से नाराज है। संयुक्त मोर्चा की बुधवार को हुई बैठक में संयोजक इंसारुल हक ने कहा कि एसीपी समेत 14 सूत्री मांगों को लेकर अक्टूबर 2021 में मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में बैठक की गई थी। जिसमें मांगों पर शीघ्र उचित कार्रवाई का आश्वासन दिया गया था।

इसके बाद भी सभी कार्मिकों को एसीपी का लाभ नहीं मिल पाया है। 14 वर्ष की नियत समय सीमा पर द्वितीय एसीपी की मांग भी लंबित है। शासनादेश की मूल भावना से इतर कार्मिकों से रिकवरी न करने, अवर अभियंता संवर्ग को 4600 ग्रेड वेतन देने आदि की मांग पर भी कार्रवाई नहीं कि जा रही है। मोर्चा पदाधिकारियों ने मांग उठाई कि समझौते के अनुसार सभी मांगों पर कार्रवाई की जाए।

बैठक के बाद मोर्चा पदाधिकारियों ने उच्चाधिकारियों से भी मुलाकात की। ताकि मांगों को सक्षम स्तर पर पुख्ता रूप से उठाया जा सके। इस अवसर पर विनोद ध्यानी, केहर ङ्क्षसह, प्रदीप कुमार, कार्तिकेय दुबे, पंकज सैनी, भानु जोशी, अमित रंजन, केडी जोशी, राजवीर ङ्क्षसह आदि उपस्थित रहे।

यह भी पढ़ें- Uttarakhand Weather News: रुद्रप्रयाग में पहाड़ी से गिरे पत्‍थर, महिला तीर्थ की मौत; मलबा आने से केदारनाथ और बदरीनाथ हाईवे बाधित

Edited By: Sumit Kumar