संवाद सूत्र, त्यूणी: रविवार को जौनसार के दसेऊ-पशगांव खत से जुड़े 22 गांव के करीब पांच हजार लोग गाजे बाजे के साथ बिस्सू लेकर महासू मंदिर हनोल पहुंचे। बिस्सू मेले में आए ग्रामीणों ने लोक नृत्य की प्रस्तुति से समां बांधा और महासू महाराज के दर्शन कर सुख समृद्धि की मन्नत मांगी। मौके पर करीब दो सौ से अधिक देव मालियों ने देवता की स्तुति भी दी।

जौनसार के दसेऊ-पशगांव खत से जुड़े हाजा, कितरोली, डांडुवा, दौधा, गबेला, दसेऊ, सुनोड़ा, मटियाना, गमरी, पोटा, मंजगांव, क्वानू, मेलोथ, भुपोऊ, मलेथा, दुनुवा, कलेथा समेत 22 गांव के लोग हर तीसरे साल बैसाख के महीने में बिस्सू लेकर महासू मंदिर हनोल पहुंचते हैं। रविवार को पशगांव खत के करीब पांच हजार लोग दो सौ वाहनों के काफिले के साथ महासू मंदिर हनोल से दो किमी पहले स्वाली-क्यारी के पास एकत्र हुए। वहां से पैदल चलकर नाचते गाते बिस्सू लेकर श्रद्धालु महासू मंदिर हनोल पहुंचे। यहां मंदिर समिति के सदस्यों व स्थानीय लोगों ने बिस्सू मनाने आए पशगांव खत के लोगों का परंपरागत तरीके से स्वागत किया।

तीन साल बाद बिस्सू मनाने हनोल मंदिर पहुंचे जौनसार के लोगों ने हारुल के साथ तांदी नृत्य कर जश्न मनाया। इस दौरान करीब दो सौ देव मालियों ने मंदिर परिसर में देव कला का प्रदर्शन कर महासू देवता की स्तुति की। इस दौरान आई बारिश भी लोगों के जोश में कमी नहीं कर सकी। लोगों ने बिस्सू मेले का भरपूर जश्न मनाया। श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए सेवा निवृत्त अपर सचिव कुंवर ¨सह चौहान ने भंडारे की व्यवस्था की थी। इस दौरान श्रद्धालुओं ने प्रसाद ग्रहण कर महासू देवता से खुशहाली की मन्नत मांगी। इस दौरान जिला जज चंडी प्रसाद बिजल्वाण, भाजपा जनजाति मोर्चा जिलाध्यक्ष अमर ¨सह चौहान, थानाध्यक्ष पंकज देवरानी, राजस्व उप निरीक्षक विनोद भंडारी, अनिल चौहान सदर स्याणा शूरवीर ¨सह, पूर्व प्रधान गीताराम चौहान, हंसराम चौहान, टीकाराम शर्मा, विक्रम ¨सह राजगुरु, नरेंद्र नौटियाल, सुनील जोशी, चमन वर्मा, मोहनलाल, नीरज वर्मा, नागचंद, विरेंद्र चौहान, सियाराम, पूरण ¨सह राणा, एनडी पंवार, आरएस रावत, रोशनलाल आदि मौजूद रहे। यातायात व्यवस्था बनाने में छूटे पसीने

त्यूणी: रविवार को हनोल मंदिर में बिस्सू लेकर पशगांव खत के दो सौ वाहनों के काफिले के साथ पहुंचे। हजारों श्रद्धालुओं के चलते थाना पुलिस को यातायात व्यवस्था बनाए रखने के लिए काफी मशक्क्त करनी पड़ी। मंदिर मार्ग पर भारी भीड़ जमा होने से थाना पुलिस को त्यूणी-मोरी-पुरोला हाईवे व ब्यूलाड़-हनोल मोटर मार्ग पर पार्किंग की वैकल्पिक व्यवस्था करनी पड़ी। मंदिर में दर्शन के लिए जुटी श्रद्धालुओं की भीड़ को व्यवस्थित करने के लिए पुलिस कई जवान तैनात रहे। मंदिर में रात्रि जागरण के बाद सोमवार सुबह पशगांव खत के लोग अपने गांव के लिए प्रस्थान करेंगे। लोक मान्यता के अनुसार पशगांव खत के लोगों को तीन साल में एक बार बिस्सू लेकर रात्रि जागरण के लिए हनोल मंदिर में अनिवार्य रूप से आना पड़ता है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस