जागरण संवाददाता, देहरादून। देहरादून रेलवे स्टेशन पर ओखा एक्सप्रेस के कोच में छिपे युवक को हर निकालने में रेलवे कर्मचारियों व जीआरपी के पसीने छूट गए। चार घंटे की मशक्कत के बाद जीआरपी ने युवक को बाहर निकाला। युवक मानसिक रूप से बीमार बताया जा रहा है।

शनिवार रात देहरादून रेलवे स्टेशन पर एक युवक के ट्रेन के डिब्बे में बंद होने की खबर सुनकर हड़कंप मच गया। रात पौने आठ बजे ओखा एक्सप्रेस देहरादून पहुंची। सभी रैक खाली होने के बाद रेलवे कर्मचारी ट्रेन को साफ सफाई के लिए वाशिंग लाइन ले गए। ट्रेन की धुलाई के दौरान एक बोगी अंदर से बंद मिली। दूसरे गेट से जब कर्मचारी बोगी के अंदर गए तो वहां बाथरूम के पास एक युवक बैठा मिला।

कर्मचारियों को देख युवक ने वाश बेसिन का पाइप निकाल कर रेलवे कर्मचारियों को मारने की कोशिश की। इसकी सूचना मिलते ही जीआरपी थानाध्यक्ष टीएस राणा टीम के साथ मौके पर पहुंचे। टीएस राणा ने बताया कि युवक ने डिब्बे को अंदर से बंद कर लिया था। युवक मानसिक रूप से बीमार लग रहा था। युवक को उनके ग्राम प्रधान की मौजूदगी में परिवार को सौंप दिया है।

जीआरपी ने पर्स चुराने वाला वेंडर दबोचा

जनता एक्सप्रेस में आइएमए कर्मी की पत्नी का पर्स उड़ाने वाले आरोपित को जीआरपी देहरादून ने शाहजहांपुर से गिरफ्तार कर लिया है। आरोपित ने पर्स में रखे कुंडल शाहजहांपुर के सुनार कोबेच दिए थे। जबकि मोबाइल उससे ही बरामद हुआ है। आरोपित रेलवे का वेंडर है, जो वाराणसी से देहरादून के बीच चलने वाली जनता एक्सप्रेस में चाय बेचता है। जीआरपी थानाध्यक्ष टीएस राणा ने बताया कि घटना बीते 25 अक्टूबर की है।

आइएमए के बाबू संतोष चतुर्वेदी हाल निवासी प्रेमनगर पत्नी के साथ जनता एक्सप्रेस से वाराणसी से दून आ रहे थे। ट्रेन रायवाला स्टेशन के नजदीक धीमी गति से चल रही थी। अचानक एक युवक उनका पर्स लेकर ट्रेन से कूदकर फरार हो गया। इसके बाद उन्होंने जीआरपी को तहरीर दी। पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू की। बीते शनिवार जीआरपी ने आरोपी धीरज गुप्ता को शाहजहांपुर से गिरफ्तार किया है। आरोपित को रविवार को शाहजहांपुर से दून लाया गया।

यह भी पढ़ें- ट्रेन में ज्वलनशील पदार्थ के साथ सफर करना पड़ सकता है भारी, पकड़े गए तो मिलेगी ये सजा

Edited By: Raksha Panthri