नई टिहरी, जेएनएन। टिहरी झील में एकबार फिर से रोमांच का सफर शुरू हो गया है। मार्च में लॉकडाउन के बाद से टिहरी झील में बंद बोटिंग शुरू होने से पर्यटकों के चेहरे खिल उठे। पहले दिन हरिद्वार और देहरादून से पहुंचे कुछ युवाओं ने झील में बोटिंग का लुत्फ उठाया। बोट संचालकों ने भी पर्यटकों की थर्मल स्क्रीनिंग के बाद ही उन्हें बोटिंग कराई। 

उत्तराखंड की हसीन वादियों में कई ऐसे पर्यटक स्थल हैं, जहां हर साल बड़ी तादाद में पर्यटक सुकून और रोमांच की तलाश में आते हैं। यहां का स्वच्छ वातावरण उन्हें बार-बार यहां आने को मजबूर कर देता है। उत्तराखंड में रोमांच के शौकीनों के लिए भी कई शानदार जगहें है। इन्हीं में से एक है टिहरी झील। कोरोना संक्रमण के चलते इस साल मार्च माह से सुनसान पड़ी टिहरी झील में मंगलवार को रौनक नजर आई।

 

जिला प्रशासन ने अनलॉक-4.0 में सोमवार को ही झील में बोटिंग की अनुमति जारी कर दी थी। साथ ही कोरोना से बचाव के संबंध में भी दिशा-निर्देश जारी किए थे। पहले दिन यहां देहरादून और हरिद्वार से युवा पहुंचे। थर्मल स्क्रीनिंग के बाद ही उन्हें बोटिंग की इजाजत मिली।युवाओं ने बोटिंग का जमकर आनंद लिया। हरिद्वार से आए हिमांशु ने बताया कि टिहरी झील शानदार पर्यटन स्थल हैं। यहां पर बोटिंग करके काफी मजा आया। 

यह भी पढ़ें: Unlock 4.0: उत्तराखंड आ रहे हैं तो इस खबर को पढ़ना न भूलें, यहां आने वालों के लिए नए आदेश जारी

वहीं, बोट यूनियन के संरक्षक कुलदीप पंवार ने बताया कि पहले दिन कम पर्यटक ही आए, लेकिन अब धीरे-धीरे कर ये संख्या बड़ने लगेगी। बोटिंग शुरू होने से बोट संचालकों को भी बड़ी राहत मिली है। सभी बोट में क्षमता से आधी सवारी बिठाकर ही पर्यटकों को घुमाया जा रहा है।

इस दौरान कोरोना वायरस संक्रमण से बचाव के लिए मास्क और शारीरिक दूरी का भी पूरी तरह पालन किया जा रहा है। फिलहाल, अभी टिहरी झील में सिर्फ बोटिंग का ही संचालन किया जा रहा है। तैराकी और बनाना राइडिंग अभी बंद है। उसके लिए और इंतजार करना पड़ेगा।  

यह भी पढ़ें: क्या कभी देखा है किसी घाटी को रंग बदलते, नहीं तो यहां जरूर आएं और जानें वजह

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस