जागरण संवाददाता, ऋषिकेश:

कोरोना संक्रमण के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं। अकेले ऋषिकेश तहसील क्षेत्र में दो सप्ताह के भीतर चार कंटेनमेंट जोन बन चुके हैं। सड़क पर शारीरिक दूरी का उल्लंघन हो रहा है। पुलिस की कार्रवाई को अगर छोड़ दिया जाए तो प्रशासन के स्तर पर अब तक कोई कार्रवाई सड़क पर नजर नहीं आई। बुधवार को उप जिलाधिकारी वरुण चौधरी टीम के साथ ऋषिकेश की सड़कों पर उतरे। टीम ने मास्क न पहनने वाले 40 व्यक्तियों के चालान किए।

ऋषिकेश के मुख्य बाजारों में कोरोना गाइडलाइन का जमकर उल्लंघन हो रहा है। यहां के तिपहिया वाहनों में ओवरलोड स्तर तक सवारी बैठाई जा रही है। सड़कों और दुकानों पर बिना मास्क के लोग आवाजाही कर रहे हैं। जबकि दुकानदारों को स्पष्ट कहा गया था मास्क नहीं तो समान नहीं, कितु इसका पालन नहीं हो रहा है। ऋषिकेश तहसील क्षेत्र में संक्रमण के मामले तेजी के साथ बढ़ रहे हैं। यहां 15 दिन के भीतर चार कंटेनमेंट जोन बन चुके हैं। उसके बाद भी कोई सबक लेने को तैयार नहीं है। हालत यह है कि बढ़ते मामलों को देखते हुए गढ़वाल मंडल विकास निगम के भरत भूमि अतिथि गृह को फिर से कोविड केयर सेंटर बनाना पड़ा है। मुख्य सचिव आदेश दें चुके हैं कि शारीरिक दूरी का पालन ना होने और मास्क ना पहने पर मुकदमा दर्ज किया जाएगा। पुलिस ने जरूर अपने स्तर पर अभियान चलाकर मास्क पहनने वालों के खिलाफ चालान की कार्रवाई की है। मगर प्रशासन के स्तर पर अब तक कोई कार्रवाई नहीं हुई थी। बुधवार को उप जिलाधिकारी वरुण चौधरी ने नगर निगम की टीम को लेकर यहां के ऑटो शोरूम, व्यापारिक प्रतिष्ठान में जाकर कोरोना गाइडलाइन का पालन कराने की जांच की। दुकानों पर गाइडलाइन पालन कराने के नोटिस चस्पा किए गए। नगर निगम के सफाई निरीक्षक सचिन रावत ने बताया कि बुधवार को मास्क ना पहनने पर 40 व्यक्तियों के चालान किए गए।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021