जागरण संवाददाता, विकासनगर: कोतवाली विकासनगर पुलिस ने नगर के मुख्य बाजार में दो व्यापारियों की दुकान से चोरी के मामले में शातिर हिस्ट्रीशीटर को गिरफ्तार किया है। चोरी गए सामान बरामद कर आरोपित के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। पुलिस के अनुसार आरोपित के खिलाफ विभिन्न धारा में कुल 25 मुकदमें पूर्व से ही दर्ज हैं।

11 अक्टूबर को संजीव पुत्र केवल राम निवासी वार्ड नंबर छह विकासनगर ने पुलिस को तहरीर देकर अपनी मोबाइल की दुकान और जोहरीलाल मामचंद की परचून की दुकान से सामान और नकदी चोरी की शिकायत की थी। चोरी की इस वारदात को लेकर स्थानीय व्यापारियों ने आक्रोश भी जताया था। मामले में पुलिस ने अज्ञात के विरुद्ध मुकदमा दर्ज करते हुए जांच शुरू की। चोरों का सुराग लगाने के लिए चार टीमें गठित की गई। इस टीम में शामिल कोतवाल प्रदीप बिष्ट, एसएसआइ विनोद राणा, दारोगा कुलवंत सिंह, चौकी प्रभारी बाजार विवेक भंडारी, डाकपत्थर प्रभारी हिमानी चौधरी आदि ने घटनास्थल के आसपास के सीसीटीवी कैमरे खंगाले। फुटेज के आधार पर देखा गया कि बाजार क्षेत्र के उसी दुकान की ओर से एक व्यक्ति जा रहा है, लेकिन उसका चेहरा नहीं दिखा। सीसीटीवी में दिख रहे व्यक्ति की पैंट कुछ अलग तरह की थी, जिसके आधार पर पुलिस टीमों ने उस व्यक्ति की तलाश शुरू की। इस दौरान फुटेज में दिख रहे व्यक्ति की पहचान जावेद उर्फ अंडा के रूप में की गई। पुलिस ने बुधवार को उसके घर दबिश देकर गिरफ्तार कर लिया। आरोपित जावेद उर्फ अंडा निवासी जीवनगढ़ के पास से मिली पैंट से फुटेज में दिखाई दिए चोर की पेंट का मिलान किया गया तो दोनों एक ही थी। पुलिस की सख्ती के चलते हिस्ट्रीशीटर ने चोरी स्वीकार कर ली और घर से माल बरामद करा दिया। हिस्ट्रीशीटर की निशानदेही पर उसके घर से आठ मोबाइल फोन, एक मोबाइल टैबलेट, एक डीवीआर, चार सीसीटीवी कैमरे, एक वायरलेस माइक्रोफोन, एक राउटर, नकद 46,050 रुपये बरामद किए। पुलिस क्षेत्राधिकारी वीडी उनियाल ने पत्रकारों को बताया कि आरोपित जावेद के खिलाफ वर्ष 2004 से अब तक आबकारी अधिनियम, चोरी, आ‌र्म्स एक्ट, गुंडा एक्ट, गोवंश संरक्षण अधिनियम आदि के 25 मुकदमे दर्ज हैं।

गिरफ्तार शातिर ने पूछताछ में बताया कि वह 11 अक्टूबर की रात में बाजार में एक दुकान की छत पर चोरी करने की नियत से छुप गया था। रात्रि में दुकान की मुमटी के दरवाजे को तोड़कर परचून की दुकान के अंदर चला गया, जहां पर सीसीटीवी कैमरे लगे थे, तब उसने पहले सीसीटीवी कैमरे व डीवीआर निकाल लिए, ताकि उसको कोई पहचान न सके और उसने दुकान से नकदी चोरी कर ली, उसके बाद वह दीवार तोड़कर बगल वाली मोबाइल की दुकान में घुस गया। जहां से उसने मोबाइल चोरी किये। सुबह साढ़े पांच बजे तक दुकान से बाहर निकल गया, फिर चोरी के सामान को घर के तहखाने में छिपा दिया था।

Edited By: Jagran