देहरादून, जेएनएन। केंद्र सरकार की ओर से परिवहन व यातायात नियम तोडऩे वालों पर कड़ी कार्रवाई और जुर्माने के प्रावधान के बावजूद कुछ चालक सुधरने को राजी नहीं। हादसों पर अंकुश के लिए सरकार ने ओवरलोडिंग पर पूरी तरह लगाम लगाने को कहा है, मगर कमर्शियल वाहन चालक बाज नहीं आ रहे। ऐसा ही मामला दून-मसूरी राजमार्ग पर सामने आया। परिवहन विभाग की टीम ने मसूरी जा रहे एक टैंपो ट्रेवलर को रोका तो उसमें 25 सवारी बैठी मिलीं। स्थिति यह है कि टैंपो ट्रेवलर 12 सीट में पास था, लेकिन उसमें जुगाड़बाजी कर 18 सीटें लगाई हुई थी। ओवरलोडिंग करने व अनाधिकृत सीट लगाने पर टैंपो ट्रेवलर का 30 हजार रुपये का चालान काटा गया। 

एआरटीओ अरविंद पांडे ने बताया कि चालान के बाद वाहन में निर्धारित संख्या के अनुसार 12 सवारी ही भेजी गई और बाकी सवारियों को बस से मसूरी भेजा गया। इस दौरान यात्रियों ने एतराज भी जताया, लेकिन विभाग ने यातायात नियमों का हवाला देते हुए रियायत देने से इन्कार कर दिया। सभी यात्री उत्तर प्रदेश के थे और वाहन भी वहीं से बुक कराकर लाए थे। हालांकि, यात्रियों की मुसीबत को देखते हुए वाहन सीज नहीं किया गया। 

बता दें कि परिवहन विभाग की ओर से पिछले तीन दिन से नियम तोड़ रहे चालकों की धरपकड़ को अभियान चलाया जा रहा है। आरटीओ दिनेश चंद्र पठोई द्वारा शुक्रवार को तीन टीमों का गठन किया गया था। एक टीम एआरटीओ अरविंद पांडे के निर्देशन में बनाई गई व दूसरी टीमों में चार नए प्रवर्तन अधिकारियों को शामिल किया गया। 

आरटीओ ने बताया कि नए परिवहन कर अधिकारियों में आशुतोष डिमरी और अनुराधा पंत को घंटाघर-राजपुर मार्ग, परेड ग्राउंड-सहस्रधारा मार्ग व रायपुर मार्ग पर चेकिंग जबकि अभिलाष गैरोला एवं प्रज्ञा पंत को चकराता मार्ग व सहारनपुर मार्ग पर चेकिंग के निर्देश दिए गए। 

इसके साथ ही एआरटीओ मुख्यालय रश्मि पंत व आरटीओ के परिवहन कर अधिकारी एमडी पपनोई को भी वाहनों की चेकिंग में लगाया गया। चेकिंग में दुपहिया पर अगली व पिछली सवारी के हेलमेट न पहनने व कार में सीट बेल्ट नहीं लगाने समेत दुपहिया और कार में अनाधिकृत साइलेंसर लगाने, बेकाबू गति से वाहन दौड़ाने, ओवरलोडिंग व वाहन का संचालन करते वक्त मोबाइल पर बात करने वालों के विरुद्ध कार्रवाई की गई। 

यह भी पढ़ें: एक बाइक पर बिना हेलमेट तीन युवतियां, जमा रहीं थी धौंस; कटा इतने का चालान

अभियान में आठ वाहन सीज किए और 75 वाहनों के चालान किए गए। एआरटीओ ने बताया कि बिना लाइसेंस के वाहन चलाना, टैक्स के बगैर वाहन चलाना, ट्रिपल राइडिंग और बिना हेलमेट समेत रैश ड्राइविंग करने वालों पर मुख्य फोकस रहा।

यह भी पढ़ें: दुर्घटना पर अब नियम सख्त, जल्द नहीं छूटेंगे वाहन; पढ़ि‍ए पूरी खबर

Posted By: Bhanu

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस