देहरादून, जेएनएन। HNBGU Examination दून में कोरोना के बढ़ते संक्रमण के खौफ को पीछे छोड़ते हुए कॉलेज छात्र-छात्राओं ने बुलंद हौसले के साथ परीक्षा दी। शनिवार से शुरू हुई हेमवती नंदन बहुगुणा गढ़वाल केंद्रीय विवि की स्नातक और स्नातकोत्तर अंतिम सेमेस्टर की परीक्षा में दून के चार बड़े कॉलेजों में करीब 96 फीसद छात्र-छात्राएं परीक्षा में शामिल हुए। परीक्षा और करियर को लेकर आज के नौजवान कितने संजीदा हैं इसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि श्री गुरूराम राम राय पीजी कॉलेज और डीबीएस पीजी कॉलेज में स्नातक व स्नातकोत्तर की पहले दिन की परीक्षा में केवल एक-एक छात्र ही अनुपस्थित रहे। 

डीएवी पीजी कॉलेज में परीक्षा के पहले दिन 1,553 विद्यार्थी पंजीकृत थे, जिनमें से केवल 132 छात्र अनुपस्थित रहे। 1421 छात्र-छात्राओं को कोरोना को मात देते हुए परीक्षाएं दी। डीबीएस में एमएससी और एसजीआरआर में बीएससी बॉटानी में शत फीसद छात्र परीक्षा देने पहुंचे। इसी प्रकार एमकेपी पीजी कॉलेज की प्राचार्य डॉ. रेखा खरे ने बताया कि पहले दिन केवल 23 छात्राओं ने परीक्षा नहीं दी। एमएससी, बीए और बीकॉम में 532 छात्र-छात्राएं शामिल हुईं। उन्होंने कहा कि परीक्षा में शारीरिक दूरी नियम का पूरा पालन किया गया। गढ़वाल विवि की परीक्षाएं 12 अक्टूबर तक चलेगी।

एसजीआरआर के प्रो. बौड़ाई ने बताया कि विवि की परीक्षा के पहले दिन स्नातक और स्नातकोत्तर की परीक्षा में लगभग शत फीसद छात्र शामिल हुए। कॉलेज की एमएससी अंतिम सेमेस्टर की परीक्षा में एक मात्र छात्र जो अनुपस्थित था वह भी एक प्रतियोगी परीक्षा देने शहर से बाहर गया हुआ है। बीएससी बॉटनी में शत फीसद छात्र शामिल हुए। परीक्षा के दौरान शारीरिक दूरी नियम का कड़ाई से पालन किया गया। आगे भी परीक्षा में इसी प्रकार की उपस्थिति रहने की संभावना है।

वहीं, डीबीएस पीजी कॉलेज के प्राचार्य डॉ. वीसी पांडेय ने बताया कि कॉलेज में शनिवार को परीक्षा के पहले दिन दो पालियों के पेपर निर्धारित थे। सुबह आठ से नौ बजे पहली पाली में एमएससी चतुर्थ सेमेस्टर में पंजीकृत 143 छात्रों में से सभी परीक्षा में शामिल हुए। इसी प्रकार दोपहर 11 से 12 बजे के बीच आयोजित परीक्षा में बीएससी छठवें सेमेस्टर में पंजीकृत 209 में से केवल एक छात्र परीक्षा से अनुपस्थित रहा। परीक्षा केंद्र के बाहर और अंदर कोरोना संक्रमण को लेकर तय गाइडलाइन का सख्ती से पालन किया गया।

यह भी पढ़ें: New Education Policy: राष्ट्रपति को भेजे जाएंगे कुलपतियों के सुझाव, नई नीति को सर्वस्वीकृत बनाने में मिलेगी मदद

डीएवी पीजी कॉलेज के प्राचार्य डॉ. अजय सक्सेना ने कहा, पहले दिन तीन पालियों में परीक्षा आयोजित की गई। परीक्षा में 95 से 98 फीसद तक छात्रों की उपस्थिति रही। दोपहर दो से शुरू हुइ्र तीसरी परीक्षा में नौ सौ से अधिक छात्रों की संख्या थी, इसके बावजूद मौके पर शारीरिक दूरी नियम, थर्मल स्कैनिंग, मास्क व सैनिटाइजर का पूरी तरह पालन किया गया। छात्र-छात्राओं की ओर से परीक्षा केंद्र के बाहर और अंदर दोनों जगह सहयोगात्मक व्यवहार रहा, जिससे परीक्षा सुगमता से संपन्न हो गई।

यह भी पढ़ें: पैरामेडिकल की पढ़ाई को अब और ज्यादा विकल्प, जानें कबतक कर सकते हैं आवेदन और कहां कितनी सीटें

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस