देहरादून, [जेएनएन]: देश पर कुर्बान होने वालों में उत्तराखंडी वीरों का कोई सानी नहीं है। आजादी के बाद से अब तक हुए कुल 11 युद्धों में डेढ़ हजार से अधिक सैनिकों ने शहादत दी है। युद्ध में वीरता प्रदर्शित करने पर मिलने वाले पदकों की सूची बताती है कि यहां के सैनिकों ने न सिर्फ युद्ध लड़े, बल्कि युद्ध कौशल में भी अपना लोहा मनवाया। कारगिल युद्ध में भी देवभूमि के 75 रणबांकुरों ने देश रक्षा में प्राणों की आहूति दी। पहाड़ के शेर बेटों ने सेना के 37 महत्वपूर्ण बहादुरी पुरस्कार हासिल किए।

 

उत्तराखंड के वीरों की वीरता के उदाहरण 1947 में कश्मीर में घुसे कबाइलों के आक्रमण, भारत-पाक व भारत-चीन युद्ध और ऑपरेशन ब्लू स्टार से लेकर कारगिल फतह के इतिहास में दर्ज हैं। इन्होंने कभी आतंकवाद प्रभावित क्षेत्रों में मोर्चा संभाला तो कभी श्रीलंका में हालात काबू करने में मदद की। राज्य की जनसंख्या के करीब 15 फीसद पूर्व सैनिक हैं, जबकि साठ हजार से अधिक जवान आज भी देश की सीमाओं की निगहबानी कर रहे हैं। 

 रक्षा विशेषज्ञ बताते हैं कि युद्ध लड़ने में ही नहीं, बल्कि युद्ध की रणनीति तय करने और फहत करने में भी इनका योगदान रहा है। आजादी के बाद से अब तक डेढ़ हजार से अधिक सैनिक देश रक्षा में अपने प्राण न्यौछावर कर चुके हैं। कई मां की गोद सूनी हुई, कई घर उजड़े और कईयों ने अपने पति खोए। लेकिन, न तो देशभक्ति का जज्बा कम हुआ और न दुश्मन को उखाड़ फेंकने का दम। 

 

कारगिल के वीर 

-महावीर चक्र-मेजर विवेक गुप्ता, मेजर राजेश अधिकारी। 

-वीर चक्र-कश्मीर सिंह, बृजमोहन सिंह, अनुसूया प्रसाद, कुलदीप सिंह, एके सिन्हा, खुशीमन गुरुंग, शशिभूषण घिल्डियाल, रूपेश प्रधान व राजेश शाह। 

-सेना मेडल-तम बहादुर क्षेत्री, हरि बहादुर, मोहन सिंह, नरपाल सिंह, देवेंद्र प्रसाद, जगत सिंह, सुरमान सिंह, डबल सिंह, चंदन सिंह, मोहन सिंह, किशन सिंह, शिव सिंह, सुरेंद्र सिंह व संजय बरशिलिया।

-मेंशन इन डिस्पैच-राम सिंह, हरि सिंह थापा, देवेंद्र सिंह, विक्रम सिंह, मान सिंह, मंगत सिंह, बलवंत सिंह, अमित डबराल, प्रवीण कश्यप, अर्जुन सेन, अनिल कुमार। 

 

किस जनपद से कितने शहीद 

अल्मोड़ा-04, बागेश्वर-02, चमोली-05, देहरादून-28, लैंसडौन (पौड़ी)-10, नैनीताल-05, पौड़ी-03, पिथौरागढ़-04, रुद्रप्रयाग-03, टिहरी-08, ऊधमसिंह नगर-02, उत्तरकाशी-01

 

वीरता पदक 

महावीर चक्र 

देहरादून-01,  नैनीताल-01,  

 

वीर चक्र 

देहरादून-06, पौड़ी- 02, नैनीताल-01 

 

सेना मेडल 

अल्मोड़ा-03, बागेश्वर-01, चमोली-01, देहरादून-04, पौड़ी-02, पिथौरागढ़-01, नैनीताल-02, टिहरी-01 

 

मैंशन इन डिस्पैच

बागेश्वर -01, देहरादून-05, नैनीताल-02, पौड़ी-03

 

 यह भी पढ़ें: जवानों ने ली देश की आन, बान व शान की रक्षा की कसम

यह भी पढ़ें: भारत-चीन युद्ध में 72 घंटे तक अकेले चीनियों से लिया था लोहा, यह सैनिक आज भी करता सीमा की रक्षा

Posted By: Sunil Negi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस