जागरण संवाददाता, ऋषिकेश: ऋषिकेश और आसपास क्षेत्र में पिछले चार दिन के भीतर अलग-अलग स्थानों पर 70 सूअर की मौत हो गई। जिसके बाद संबंधित क्षेत्र में हड़कंप मच गया। प्रशासन की ओर से तहसील और नगर निगम की टीम का गठन किया। टीम ने नगर क्षेत्र में सूअर का मीट बेचने वाली आठ दुकानों को अग्रिम आदेश तक बंद करा दिया। सूअर के मांस के सैंपल जांच के लिए भेजे गए हैं। रिपोर्ट आने के बाद ही इनकी मौत के सही कारण का पता चल पाएगा। सूअर का मीट खाने से बीमार होने संबंधी अभी तक कोई मामला सामने नहीं आया है।

ऋषिकेश की बाल्मीकि बस्ती और आइडीपीएल क्षेत्र में बड़ी संख्या में लोग सूअर पालन का कार्य करते हैं। बीते चार दिनों में नगर तथा आसपास क्षेत्र में पालतू सूअर के मौत की घटनाएं बढ़ने लगी। प्रशासन के मुताबिक इन चार दिनों में अब तक 70 सूअर की मौत हो चुकी है। कुछ स्थान पर गाय की भी मौत हुई है मगर, इनकी संख्या सीमित है। मामले की गंभीरता को समझते हुए उप जिला अधिकारी शैलेंद्र सिंह नेगी ने तहसील प्रशासन और नगर निगम की टीम का गठन किया। मंगलवार को टीम में शामिल राजस्व उपनिरीक्षक सुधीर सैनी, नगर निगम कर अधीक्षक निशात अंसारी ने पुलिस कर्मियों के साथ सुअर का मीट बेचने वाली दुकानों का निरीक्षण करने पहुंचे। कर अधीक्षक अंसारी ने बताया कि वाल्मीकि बस्ती में छह और आइडीपीएल क्षेत्र में दो दुकानों को अग्रिम आदेश तक बंद करा दिया गया है। उन्होंने बताया कि अधिकतर मृत सूअर नीले पड़ चुके हैं। कुछ स्थानों पर गाय भी मरी है, मामला अभी संदिग्ध है। मृत सूअर के मांस और जीवित सूअर के मल के सैंपल जांच के लिए भेजे गए हैं। रिपोर्ट आने के बाद ही इनकी मौत का सही कारण पता चल पाएगा। अभी तक सूअर का मीट खाने से बीमार होने संबंधी कोई भी मामला सामने नहीं आया है।

Edited By: Jagran