राज्य ब्यूरो, देहरादून: Sridev Suman University श्रीदेव सुमन उत्तराखंड विश्वविद्यालय के पंडित ललित मोहन शर्मा परिसर, ऋषिकेश में प्रदेश के सरकारी डिग्री कालेजों से करीब 19 विषयों के 68 शिक्षकों को समायोजित किया गया है। शासन ने सोमवार को इस संबंध में आदेश जारी किए।

सरकार ने बीती छह अगस्त, 2019 को आदेश जारी कर पंडित ललित मोहन शर्मा राजकीय पीजी कालेज, ऋषिकेश को श्रीदेव सुमन विश्वविद्यालय का परिसर घोषित किया था। इसके बाद बीती 19 फरवरी, 2020 को राज्य के सभी राजकीय डिग्री कालेजों में कार्यरत स्थायी प्राध्यापकों से विश्वविद्यालय के इस परिसर में समायोजन के लिए विकल्प मांगे गए थे। विश्वविद्यालय ने समायोजन के प्रत्यावेदनों की छंटनी के लिए स्क्रीनिंग कमेटी गठित की थी।

विवि में ही कार्यरत रहेंगे प्राध्यापक

कमेटी की संस्तुति पर ऋषिकेश परिसर में शिक्षकों के समायोजन के आदेश सोमवार को शासन ने जारी किए। कुलपति को जारी आदेश में समायोजित शिक्षकों को ऋषिकेश परिसर में कार्यभार ग्रहण करने के निर्देश दिए गए हैं। समायोजित प्राध्यापक विश्वविद्यालय में ही कार्यरत रहेंगे। उनकी सेवा अस्थानांतरणीय होंगी।

यह भी पढ़ें- Admission In DAV: डीएवी पीजी कालेज ने दूसरी मेरिट लिस्ट की जारी, 24 सितंबर तक होंगे दाखिले

वरिष्ठता पर नहीं पड़ेगा प्रभाव

आदेश में कहा गया कि समायोजित प्राध्यापकों की वरिष्ठता पूर्ववत रहेगी। समायोजित शिक्षकों की वरिष्ठता शासन व उच्च शिक्षा विभाग की ओर से निर्धारित सूची के अनुरूप रहेगी। उनके शैक्षणिक पद व वेतनमान संरक्षित होंगे। वेतन वृद्धि की तिथि पूर्ववत ही रहेगी। परिसर में समायोजन के बाद प्राध्यापकों को दो वर्ष का धारणाधिकार भी दिया गया है। समायोजित शिक्षकों को उसी पेंशन प्रणाली से आच्छादित किया जाएगा, जिसमें वह डिग्री कालेजों में रहे हैं। सेवा-शर्तें राजकीय सेवा की ही रहेंगी।

ऋषिकेश कालेज शिक्षक हल्द्वानी व दून से संबद्ध

आदेश में कहा गया कि ऋषिकेश कालेज में कार्यरत अन्य प्राध्यापक जो विश्वविद्यालय परिसर में समायोजित नहीं हुए हैं, वे उच्च शिक्षा निदेशालय हल्द्वानी और क्षेत्रीय कार्यालय देहरादून से संबद्ध हो जाएंगी। उनकी तैनाती विषयवार रिक्त पदों पर अलग से की जाएगी।

विभिन्न विषयों में समायोजन

शासन ने ऋषिकेश परिसर में हिंदी विषय के तीन, संस्कृत, शारीरिक शिक्षा, शिक्षा शास्त्र, संगीत, गृह विज्ञान के एक-एक शिक्षक समयोजित किए हैं। भौतिक विज्ञान के छह, वनस्पति विज्ञान के सात, भूगर्भ विज्ञान के दो, जंतु विज्ञान के छह, गणित के चार और रसायन विज्ञान के आठ शिक्षकों का समायोजन किया गया है। वाणिज्य विषय में 10, राजनीति विज्ञान में तीन, इतिहास में दो, भूगोल में चार, समाज शास्त्र में दो, अर्थशास्त्र में तीन व अंग्रेजी विषय में तीन शिक्षकों का समायोजन किया गया है।

यह भी पढ़ें- हस्तशिल्प के प्रचार को खासी गंभीर उत्तराखंड सरकार, अब हर साल11 हस्तशिल्पियों को शिल्प रत्न अवार्ड

Edited By: Sumit Kumar