जागरण संवाददाता ऋषिकेश: एक पखवाड़ा पूर्व जिलाधिकारी देहरादून की अध्यक्षता में आयोजित तहसील दिवस में 67 अधिकारी मौजूद रहे। मंगलवार को आयोजित इस दिवस से अधिकांश विभाग के अधिकारी नदारद रहे। तहसील दिवस पर कुल 57 शिकायतें दर्ज हई , वहीं समाज कल्याण की पेंशन से संबंधित 53 मामलों का निस्तारण किया गया। चार शिकायतों के समाधान के लिए संबंधित विभाग को भेजा गया।

मंगलवार को उप जिलाधिकारी शैलेंद्र सिंह नेगी की अध्यक्षता में तहसील दिवस आयोजित किया गया। इस बार नजारा बदला हुआ था, जिम्मेदार अधिकारी नदारद थे। फरियादी बड़ी संख्या में यहां पहुंचे लेकिन संबंधित विभाग के अधिकारियों के न होने से वह निराश वापस लौटे। तहसील दिवस पर कुल 57 शिकायतें दर्ज की गई। इनमें से 53 मामले वृद्धावस्था, विधवा पेंशन से संबंधी रहे। इनका मौके पर ही निस्तारण कर दिया गया। जबकि अन्य चार मामलों को निस्तारण के लिए संबंधित विभाग को अग्रसारित कर दिया गया। तहसील दिवस से पेयजल, लोनिवि, पशु चिकित्सा, स्वास्थ्य, श्रम, पूर्ति विभाग के अधिकारी नदारद रहे। जिम्मेदार विभागों के नदारद रहने से तहसील दिवस दोपहर साढ़े बारह बजे ही निपट गया। उपजिलाधिकारी ने बताया कि अनुपस्थित विभागों के अधिकारियों के संबंध में वरिष्ठ अधिकारियों को लिखा जा रहा है। पूर्व सभासद राम कृपाल गौतम राजू गुप्ता ने सर्वहारानगर में सीवर लाइन बिछाने के कार्य को शीघ्र पूरा करने की मांग की। तहसील दिवस में सहायक समाज कल्याण अधिकारी महेश प्रताप सिंह, बाल विकास परियोजना सुपरवाईजर माया चोपड़ा, सहायक अभियंता नगर निगम दिनेश उनियाल, कर अधीक्षक निशात अंसारी, राजस्व उप निरीक्षक सुधीर सैनी, संग्रह अमीन प्रमोद चौहान आदि मौजूद रहे।

Edited By: Jagran