देहरादून, राज्य ब्यूरो। रुड़की नगर निगम के चुनाव में भाजपा को अपनों की बगावत से जूझना पड़ रहा है। महापौर समेत वार्ड सदस्य पदों पर पार्टी प्रत्याशियों के खिलाफ चुनाव लड़ रहे 25 कार्यकर्ताओं को भाजपा ने बाहर का रास्ता दिखा दिया है। इनमें महापौर पद के दो प्रत्याशी भी शामिल हैं। पार्टी के प्रांतीय महामंत्री राजेंद्र भंडारी ने कहा कि भाजपा में अनुशासन सर्वोपरि है और इसे तोड़ने की किसी को इजाजत नहीं है।

नगर निगम चुनाव का एलान होने के भाजपा से भी बड़ी संख्या में कार्यकर्ताओं ने दावेदारी पेश की। पार्टी ने जब महापौर और वार्ड सदस्यों के लिए उम्मीदवारों का एलान किया तो वे लोग नाराज हो गए, जो लंबे समय से चुनाव की तैयारी में जुटे हुए थे। इन सभी ने पार्टी प्रत्याशियों के खिलाफ नामांकन भी दाखिल कर दिए।

हालांकि, पार्टी नेतृत्व ने इसे क्षणिक आवेश माना और उम्मीद जताई कि नाम वापसी तक ये सभी नाम वापस ले लेंगे। इन्हें मनाने की कोशिशें भी हुई, मगर बात नहीं बनी। अब पार्टी ने इस मामले में सख्त रुख अपनाया है। भाजपा के प्रदेश महामंत्री राजेंद्र भंडारी ने बताया कि ऐसे 25 कार्यकर्ताओं के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई की गई है।

यह भी पढ़ें: उत्तरकाशी में भाजपा को फिर से लगा झटका, जिला पंचायत अध्यक्ष सीट में करारी हार

जिन कार्यकर्ताओं को निष्कासित किया गया है, उनमें महापौर पद पर पार्टी प्रत्याशी के खिलाफ चुनाव मैदान में डटे गौरव गोयल व चंद्रप्रकाश बाटा शामिल हैं। इनके अलावा वार्ड सदस्य पदों पर पार्टी प्रत्याशी के खिलाफ लड़ रहे 23 कार्यकताओं को पार्टी स बाहर का रास्ता दिखाया गया है।

यह भी पढ़ें: पंचायतों में भी सरपट दौड़ा भाजपा का विजय रथ, हौसले सातवें आसमान पर

Posted By: Bhanu

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप