देहरादून, जेएनएन। देहरादून में फंसे बिहार व उत्तर प्रदेश के यात्रियों को श्रमिक स्पेशल ट्रेन से रवाना किया गया। दून से अररिया के 1152 यात्री व रायबरेली के 1130 यात्री अपने घर लौटे। अब बिहार के खगड़िया के लिए श्रमिक स्पेशल ट्रेन रवाना होगी।

दून से बिहार के अररिया जाने वाली ट्रेन के लिए सुबह साढ़े नौ बजे से यात्रियों का स्टेशन आना शुरू हो गया। पुलिस चौकी व थानों में पंजीकृत यात्रियों को बन्नू स्कूल से छोटी-छोटी टुकड़ियों में स्टेशन लाया गया। यहां टिकट के साथ प्रशासन ने आसरा ट्रस्ट के सहयोग से सभी यात्रियों को भोजन किट, सेनिटाइजर व मास्क भी उपलब्ध कराए। 

करीब 11:45 पर ट्रेन पूरी तरह पैक हो गई। इसके बाद ट्रेन को 12 बजे रवाना करने की अनुमति मांगी गई, लेकिन स्वीकृति नहीं मिलने पर ट्रेन अपने निर्धारित समय एक बजे ही रवाना हुई। इस दौरान व्यवस्था की निगरानी के लिए नोडल अधिकारी व मुख्य विकास अधिकारी नितिका खंडेलवाल के साथ सीओ सिटी शेखर सुयाल, स्टेशन निदेशक गणोश चंद ठाकुर आदि मौजूद रहे।

1130 यात्री गए रायबरेली

देहरादून से रायबरेली जाने वाली ट्रेन अपने निर्धारित समय पर उत्तर प्रदेश के रायबरेली के 1130 यात्रियों को लेकर रवाना हुई। इस ट्रेन के लिए 1152 यात्रियों ने पंजीकरण कराया था। लेकिन तय समय तक 1130 यात्री ही पहुंचे।

मुंबई से सबसे अधिक 172 यात्री पहुंचे दून

लॉकडाउन में घरेलू उड़ानें शुरू होने के बाद अब हवाई यात्रियों की संख्या में वृद्धि होने लगी है। तय शेड्यूल के मुताबिक जौलीग्रांट एयरपोर्ट पर सभी सात उड़ानें संचालित हुई। मुंबई से जौलीग्रांट एयरपोर्ट पर पहुंची फ्लाइट में सबसे अधिक 172 यात्री यहां पहुंचे। सात फ्लाइटों से 364 यात्री यहां पहुंच चुके थे, जबकि 242 यात्री यहां से रवाना हुए। 

लॉकडाउन में दो माह तक देश भर में घरेलू उडऩें बंद रही। 25 मई से देश में घरेलू उड़ाने शुरू कर दी गई थी। हवाई यात्रियों को यात्रा के बाद सात दिन पेड क्वारंटाइन में रखे जाने के नियम के चलते अभी तक हवाई यात्रियों की संख्या कम ही है। 

जौलीग्रांट एयरपोर्ट पर पिछले तीन दिनों की अपेक्षा हवाई यात्रियों की संख्या में कुछ वृद्धि नजर आयी। बीती बुधवार को मुंबई से जौलीग्रांट आने वाली फ्लाइट भी कैंसिल हो गयी थी। मगर, गुरुवार को सभी सात उड़ानें जौलीग्रांट पहुंची। सबसे पहले एयर इंडिया की फ्लाइट दिल्ली से 17 यात्रियों को लेकर जौलीग्रांट पहुंची। इस फ्लाइट ने यहां से 27 यात्रियों को लेकर पंतनगर के लिए उड़ान भरी और पांच यात्रियों को लेकर वापस जौलीग्रांट पहुंची। 

इसके बाद दिल्ली से पहुंची स्पाइस जेट के विमान से 50 यात्री व इंडिगो की फ्लाइट से 25 यात्री यहां पहुंचे। सबसे ज्यादा 172 यात्री मुंबई से इंडिगो की फ्लाइट से देहरादून पहुंचे। यह फ्लाइट यहां से 29 यात्रियों को लेकर रवाना हुई। दोपहर  दिल्ली से इंडिगो एयरलाइंस का विमान भी 73 यात्रियों को लेकर जौलीग्रांट पहुंचा। 

करीब साढ़े सात बजे दिल्ली से एयरपोर्ट पहुंची सातवीं फ्लाइट में 25 यात्री आए और इस फ्लाइट से चार यात्री वापस लौटें। एयरपोर्ट के मैनेजर सुमित सक्सेना ने बताया कि गुरुवार को सात उड़ानों से कुल 364 यात्री जौलीग्रांट एयरपोर्ट पहुंचे, जबकि 242 यात्री यहां से दिल्ली, मुंबई और पंतनगर के लिए रवाना हुए। 

यह भी पढ़ें: Coronavirus: दिल्ली और मुंबई से आए 22 लोगों को किया संस्थागत क्वारंटाइन Dehradun News

सभी हवाई यात्रियों को संस्थागत क्वारंटाइन के लिए भेजा 

हवाई यात्रियों को लेकर अभी तक संस्थागत पेड क्वारंटाइन की व्यवस्था जारी है। हालांकि यहां पहुंचने वाले यात्री लगातार इसका विरोध कर रहे हैं। कई यात्रियों ने पेड क्वारंटाइन में जाने से असमर्थता जताई। इससे पूर्व के संस्थागत क्वारंटाइन किए गए यात्री भी अपनी मजबूरी और लाचारी की बात कहकर पेड क्वारंटाइन की व्यवस्था पर पुनर्विचार करने की मांग कर रहे हैं। मगर, अभी तक इसको लेकर कोई निर्णय नहीं हो पाया है। गुरुवार को भी विभिन्न उड़ानों से जौलीग्रांट पहुंचे हवाई यात्रियों को प्रशासन की टीम ने स्वास्थ्य जांच के बाद संस्थागत पेड क्वारंटाइन के लिए भेजा।

यह भी पढ़ें: Coronavirus: चमोली में लापरवाही पड़ गई भारी, हॉटस्पॉट बना क्वारंटाइन सेंटर

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस