राज्य ब्यूरो, देहरादून। Vocal For Local गंगाद्वार हरिद्वार में कुंभ में आस्था की डुबकी के साथ ही श्रद्धालु, विशेषकर युवा करियर काउंसिलिंग और कौशल विकास के बारे में विस्तृत जानकारी हासिल कर सकेंगे। इस कड़ी में कुंभ मेले में 'स्किल इंडिया पवेलियन' का सोमवार को वर्चुअली उद्घाटन किया गया। इस मौके पर मुख्य अतिथि मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने कौशल विकास कार्यक्रम को 'आत्मनिर्भर भारत' और 'वोकल फार लोकल' से जोड़ने पर बल दिया। साथ ही महिला स्वयं सहायता समूहों के कौशल विकास पर खास ध्यान केंद्रित करने की जरूरत बताई।

'स्किल इंडिया पवेलियन' का उद्घाटन मुख्यमंत्री रावत के अलावा केंद्रीय कौशल विकास एवं उद्यमशीलता मंत्री डा. महेंद्रनाथ पांडेय और केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशक ने किया। अपने संबोधन में मुख्यमंत्री ने कहा कि कुंभ मेला देश की आध्यात्मिक ताकत का बोध कराता है। इसी तरह के एकजुट प्रयासों से हम स्किल इंडिया पवेलियन के जरिये भविष्य की जरूरत के अनुरूप युवाओं के कौशल को निखार सकते हैं। इससे हम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के एक भारत-श्रेष्ठ भारत के सपने को साकार करने की दिशा में आगे बढ़ सकेंगे।

उन्होंने कहा कि उत्तराखंड में कृषि, औद्यानिकी, खाद्य प्रसंस्करण, पर्यटन, साहसिक पर्यटन, आइटी पर खास फोकस किया जा सकता है। इन क्षेत्रों में कौशल विकास के कार्यक्रम संचालित करने के साथ ही मार्केटिंग पर भी ध्यान देना होगा। राज्य में स्वयं सहायता समूहों और इनमें भी महिला स्वयं सहायता समूहों को कौशल विकास से जोडऩे के बेहतर परिणाम मिल सकते हैं। उन्होंने प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना 3.0 में उत्तराखंड को अधिक लक्ष्य आवंटित करने का आग्रह भी केंद्र से किया।

केंद्रीय कौशल विकास एवं उद्यमशीलता मंत्री डा. महेंद्रनाथ पांडेय ने कहा कि कौशल विकास एवं आत्मनिर्भर भारत की दिशा में देश तेजी से आगे बढ़ रहा है। उत्तराखंड के लिए यहां की जरूरत के हिसाब से योजनाएं बनाई जा रही हैं। एडवेंचर, जैविक खेती, पर्यटन समेत अन्य क्षेत्रों में कौशल विकास प्रशिक्षण के लिए केंद्र की ओर से पूर्ण सहयोग दिया जाएगा। उन्होंने कोविड की गाइडलाइन का पालन करते हुए कुंभ की बेहतर व्यवस्थाओं के लिए मुख्यमंत्री की सराहना की।

केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक ने कहा कि कुंभ के समय कौशल विकास की दृष्टि से जागृति फैलाने की यह अभिनव पहल है। उन्होंने कहा कि उत्तराखंड में प्रतिभाओं की कमी नहीं है और कौशल विकास से यह उजागर होंगी। केंद्रीय कौशल विकास और उद्यमिता राज्यमंत्री आरके सिंह ने कहा कि कौशल विकास के सिलसिले में राज्यों से प्राप्त होने वाले सुझावों पर गंभीरता से विचार किया जाएगा।

प्रदेश के कौशल विकास मंत्री डा. हरक सिंह रावत ने कहा कि आत्मनिर्भर भारत के संकल्प को सिद्ध करने में युवाओं की महत्वपूर्ण भूमिका होगी। युवाओं के हाथों में हुनर देकर हम इस दिशा में तेजी से आगे बढ़ सकते हैं। हरिद्वार विधायक एवं भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक ने कहा कि कौशल विकास से स्वरोजगार के प्रति रुझान तेजी से बढ़ेगा।

युवाओं से किया संवाद

कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत और केंद्रीय मंत्री डा. महेंद्रनाथ पांडेय ने युवाओं से संवाद भी किया। उन्होंने अलीगढ़ के सतेंद्र कुमार, विशाल समेत अन्य युवाओं से बातचीत कर पवेलियन में मिली कौशल विकास से संबंधित जानकारी अपने-अपने क्षेत्रों के युवाओं से साझा करने की अपेक्षा की।

यह भी पढ़ें- ज्ञान गंगा : तकनीकी शिक्षा और चिकित्सा शिक्षा से मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत का रिश्ता

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021