जागरण संवाददाता, देहरादून।  Fake Currency देहरादून में कोटेक महिंद्रा बैंक में नकदी जमा करवाने आए एक कॉन्ट्रेक्टर के 500-500 रुपये के आठ नोट जाली पाए गए। ब्रांच मैनेजर की तहरीर पर डालनवाला कोतवाली पुलिस ने कॉन्ट्रेक्टर के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया है।

नालापानी चौकी इंचार्ज प्रदीप रावत ने बताया कि दोपहर में कांट्रेक्टर कन्हैया लाल निवासी बांबेवाला छठाधाम कुटी कानपुर दिन में कोटेक महिंद्रा बैंक सिटी सेंटर राजपुर रोड में नकदी जमा करवाने आया था। उन्होंने सात लाख रुपये बैंक में जमा करवाए। बैंक कैशियर ने जब नोट गिने तो इनमें से आठ नोट जाली पाए गए।

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के नियमानुसार बैंक मैनेजर विजय रोशन की तहरीर पर कॉन्ट्रेक्टर कन्हैया लाल के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया है। उन्होंने बताया कि कांट्रेक्टर यह नकदी रामपुर उत्तर प्रदेश से लेकर आया था। हालांकि, कॉन्ट्रेक्टर ने पूछताछ के दौरान बताया वह किसी बैंक से नकदी लेकर आया था। 

दस्तावेज किसी के, गाड़ी किसी और को बेच दी

खुड़बुड़ा निवासी एक व्यक्ति के नाम के दस्तावेजों पर एक शोरूम से वाहन किसी और को बेच दिया गया। इसकी शिकायत पीड़ित ने पुलिस महानिदेशक से की है। शिकायतकर्ता शुभम गर्ग ने बताया कि वह नौ नवंबर को रतनपुर बड़ोवाला स्थित एक शोरूम में वाहन खरीदने के लिए गए थे। 10 नवंबर को शोरूम के कर्मचारियों ने दस्तावेजों को अमान्य घोषित कर दिया। 24 नवंबर को उनके मोबाइल पर एक वाहन ऋण संबंधी मैसेज आया, जिसमें बताया गया कि उनकी किश्त 3272 प्रतिमाह है और किश्त तीन दिसंबर तक जमा करवा दें। 

शुभम ने बताया कि उन्होंने शोरूम से कोई वाहन नहीं खरीदा है। उनका आरोप है कि उनके दस्तावेजों पर शोरूम ने वाहन किसी और को बेच दिया। 24 नवंबर को जब वह बैंक गये तो पता लगा कि शोरूम ने उनके नाम से किसी और को वाहन बेच दिया है। इसके बाद कंपनी के कुछ कर्मचारी शुभम के घर पहुंचे और कहा कि गलती से वाहन किसी और को बेचा गया है।

यह भी पढ़ें: खुद को पुलिसकर्मी बताकर शातिर ने महिला से ठगे कंगन और सोने की चेन

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021