देहरादून, राज्य ब्यूरो। मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह ने सभी जिलाधिकारियों से जनता तक यह संदेश पहुंचाने को कहा है कि प्रदेश में खाद्यान्न की कोई कमी नहीं है। प्रतिदिन सुबह सात से 10 बजे तक आवश्यक वस्तुओं की दुकानें खुली रहेंगी। ऐसे में लोग खरीदारी में जल्दबाजी न करें और न ही चीजों को एकत्र करें। सोशल डिस्टेंसिंग के नियम का पालन करते हुए खरीददारी करें। उन्होंने जिलाधिकारियों से कालाबाजारी करने अथवा अधिक दाम पर सामग्री बेचने वालों के खिलाफ भी कठोर कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं। 

मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह ने बुधवार को सभी जिलाधिकारियों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये कोरोना के संबंध में की जा रही तैयारियों की समीक्षा की। उन्होंने लॉकडाउन के दौरान सभी जिलों की स्थिति की जानकारी ली। मुख्य सचिव ने कहा कि अधिकारी जनता को यह सुनिश्चत करें कि प्रतिदिन तीन घंटे तक आवश्यक वस्तुओं की दुकानें खुली रहें। प्रदेश में किसी चीज की कमी नहीं है। सभी का पूरा स्टॉक रखा हुआ है। ऐसे में हड़बड़ी में खरीदारी न करें। दुकानों के आगे भीड़ न लगा कर शांतिपूर्ण तरीके से लाइन बनाते हुए सामग्री लें। तीन घंटे का समय पर्याप्त होता है, जो लोग निकल नहीं सकते उनके घरों तक खाना और राशन पहुंचाने की व्यवस्था सुनिश्चित की जाए। 

गरीब और बेसहारों की मदद को आ रहे आगे 

कई नागरिक संगठन गरीब और बेसहारों को खाना देने के लिए आगे आ रहे हैं। ऐसे में व्यवस्थित तरीके से एक सेंट्रल प्वाइंट बनाते हुए खाना एकत्र किया जाए और इसके बाद इसका वितरण किया जाए ताकि कहीं भीड़ न लगे। मुख्य सचिव ने होम क्वारंटाइन में रखे गए लोगों का नियमित परीक्षण करने के साथ ही इस बात को सुनिश्वचत करने को कहा कि ऐसे लोग इसका उल्लंघन न करें। कहीं भी किसी चीज की कोई कमी नजर आती है तो इसकी सूचना शासन को दी जाएगा ताकि कमी को दूर किया जा सके। बैठक में डीजीपी अनिल रतूड़ी, सचिव आपदा प्रबंधन व सचिव खाद्य समेत अन्य अधिकारी भी मौजूद थे। 

एफआरआइ में 700 किलो राशन भेजा 

एफआरआइ परिसर में नियमित खाद्य सामग्री की पूर्ति की जा रही है। जिला पूर्ति विभाग को इसकी जिम्मेदारी सौंपी गई है। विभाग ने बुधवार को 700 किलो राशन और साढ़े 300 किलो सब्जी एफआरआइ पहुंचाई। लॉकडाउन के बाद से अब तक परिसर में 2500 किलो से ज्यादा राशन की पूर्ति हो चुकी है। जिला पूर्ति अधिकारी जसवंत सिंह कंडारी ने बताया कि एफआरआइ परिसर में नियमित खाद्य सामग्री की पूर्ति की जा रही है। हर दिन लोगों से उनकी जरूरत के अनुसार लिस्ट बनवाई जाती है। अगली सुबह परिसर के गेट पर पूर्ति विभाग के अधिकारी खाद्य सामग्री छोड़कर आते हैं। यहां से परिसर के अधिकृत लोग सामान ऑफिसर्स क्लब ले जाते हैं। वहां दिन में दो दफा परिसर में रह रहे लोगों को खाद्य सामग्री की पूर्ति की जाती है।

यह भी पढ़ें: coronavirus: न हों परेशान, बिजली-पानी की निर्बाध आपूर्ति को विभाग तैयार 

बता दें कि राशन सब्जी समेत अन्य जरूरी वस्तुओं के लिए एफआरआइ परिसर जिला प्रशासन पर ही निर्भर है। जिला पूर्ति अधिकारी ने बताया कि बुधवार को परिसर में 50 किलो फूलगोभी, 30 किलो पत्ता गोभी, 50 किलो मटर, 4 पेटी टमाटर, 10 किलो हरी मिर्च, 3 किलो हरा धनिया, 30 किलो बींस, 150 किलो आलू, 5 किलो नींबू, 50 किलो संतरा, 30 नारियल और 40 दर्जन केले पहुंचाए गए। 60 किलो चना, 20 किलो सूजी, डिटजेर्ंट, नमकीन, बिस्किट, टॉफी, खाद्य तेल, 50 किलो नमक, 500 किलो आटा, गरम मसाला, मैगी आदि की सप्लाई की गई।

यह भी पढ़ें: Uttarakhand Lockdown: लॉकडाउन के दौरान नहीं रहेगी पेयजल की कमी, जलसंस्थान ने की तैयारी

Posted By: Raksha Panthari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस