मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

देहरादून, जेएनएन। यूनिसन वर्ल्ड स्कूल में स्पिक मैके के तीन दिवसीय समागम का समापन कलाकारों के सम्मान के साथ किया गया। समापन पर देशभर से जुट कलाकारों ने अपनी-अपनी कला क्षेत्र की प्रस्तुतियां देकर लोगों का मनोरंजन किया।

समापन पर रोनू मजुमदार की बांसुरी की धुन ने लोगों के कानों में मीठा संगीत घोल दिया। सिक्की गुरुचरन ने कर्नाटकी गीत, विदुषी तूलिका घोष ने हिंदुस्तानी गीत और डॉ. अलंकार सिंह ने गुरुवाणी सुनाकर कार्यक्रम में मौजूद लोगों की तालियां बटोरी। 

इसके अलावा कलाकारों ने तबला, कठपुतली शो, वोकल्स, संगीत, गुरुबानी, कथक, भरतनाट्यम, गढ़वाली फोक, ओडीशी और छाऊ समेत अन्य नृत्य और गायन विधाओं की पेशकश दी। 

समापन समारोह में महिला एवं बाल कल्याण मंत्री रेखा आर्य मुख्य अतिथि के तौर पर मौजूद रहीं। उन्होंने कहा कि संस्कृति और लोक संगीत हमारी सभ्यता की नींव है। हमारे शास्त्र ही हमारे असली शिक्षक हैं। अगर हमें संगीत की नींव को समझना है तो हमें सांस्कृतिक और लोक संगीत सुनने की जरूरत है।

यह भी पढ़ें: भजन गायकी में परलिश, ध्रूवित, ऋषभ ने मारी बाजी Dehradun News

कार्यक्रम में शरीक हुए कलाकारों को यूनिसन वर्ल्ड स्कूल की प्रधानाचार्य दिव्या द्विवेदी ने सम्मानित किया। स्पिक मैके के सचिव विद्या वासन ने कहा कि भारतीय संगीत और कला को बढ़ावा देने के लिए यह आयोजन हर साल किया जाता है। 

यह भी पढ़ें: लोक गायक धूम सिंह रावत का देशभक्ति गीत 'देश की रक्षा खातिर' रिलीज

कार्यक्रम में तुलिका घोष, विजया गोडबोले, दीप्ति गुप्ता, रवि प्रकाश, तान्या सक्सेना, शलाखा राय, डॉ. अलंकार सिंह, तरपद राजक, जय शंकर मिश्रा, दादा पुदुमजी, अंबिका देवी, राजेंद्र श्याम, कमलदीप सिंह, मनोज कुमार, माधुरी बर्थवाल और भूमेश भारती समेत अन्य कलाकारों का सम्मान भी किया गया।

यह भी पढ़ें: इंडिया बैटल ऑफ डांस: युवाओं ने अपनी परफॉर्मेंस से लूटी महफिल, ये रहे विजेता

Posted By: Bhanu

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप