देहरादून, [जेएनएन]: पर्वतीय और मैदानी क्षेत्र के बीच आर्थिक अंतर मिटाने से विकास दर में इजाफा होगा। साथ ही पर्वतीय क्षेत्रों में महिलाओं और युवाओं को रोजगार से जोडऩे वाली योजनाओं से पलायन रुकेगा। इसके बाद साधन संपन्न और साधनहीन में अंतर नहीं रहेगा। राज्यपाल बेबी रानी मौर्य ने राज्य स्थापना दिवस के मौके पर पुलिस लाइन में आयोजित रैतिक परेड को संबोधित करते हुए यह विचार व्यक्त किए। इस दौरान मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने भी परेड को संबोधित करते हुए पुलिस कार्यों की सराहना की।

कार्यक्रम की शुरुआत में राज्यपाल ने रैतिक परेड का निरीक्षण कर सलामी ली। इस दौरान उन्होंने प्रदेश के विकास में मातृशक्ति और युवाओं के योगदान को अहम बताया। उन्होंने युवाओं को राष्ट्रीय स्वच्छता मिशन, डिजिटल इंडिया, स्टार्टअप जैसी योजनाओं से जुडऩे का आह्वान किया। साथ ही बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ अभियान को नारी सशक्तीकरण की दिशा में एक बेहतरीन प्रयास बताया।

इससे पहले परेड में बतौर विशिष्ट अतिथि मौजूद मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि राज्य किशोरावस्था को पूर्ण कर यौवन की तरफ बढ़ रहा है। इस दौरान विकास के नए आयाम स्थापित हुए हैं। उन्होंने पुलिस की ओर से बीती एक साल में स्थापित कीर्तिमान को लेकर सबको बधाई दी। कहा कि राज्य पुलिस ने आपदा हो या अपराध, हर जगह अपनी जिम्मेदारी बखूबी निभाई है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि तकनीकी के विकास के चलते अपराधी भी एक्सपर्ट हो गए हैं। ऐसे में अपराधी छोटा हो या बड़ा, पुलिस सबको रडार पर रखे। उन्होंने कहा कि इन्वेस्टर्स समिट से राज्य के भविष्य की जो रेखा खींची गई, उसके परिणाम जल्द देखने को मिलेंगे। इससे पहले डीजीपी अनिल कुमार रतूड़ी ने भी पुलिस कार्यों की सराहना की। इस मौके पर पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज, उच्च शिक्षा राज्य मंत्री(स्वतंत्र प्रभार) डॉ. धन सिंह रावत, मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह, एडीजी लॉ एंड आर्डर अशोक कुमार, एडीजी प्रशासन राम सिंह मीना, एसएसपी निवेदिता कुकरेती आदि मौजूद रहे। इस दौरान दो पुस्तकों का भी लोकार्पण किया गया।

परेड कमांडर की खूब हुई तारीफ 

राज्य स्थापना दिवस की दूसरी परेड का नेतृत्व कर रहीं एसएसपी निवेदिता कुकरेती की राज्यपाल से लेकर मुख्यमंत्री ने खूब तारीफ की। डीजीपी अनिल कुमार रतूड़ी ने भी निवेदिता की पीठ थपथपाते हुए उन्हें शाबाशी दी। इसके अलावा द्वितीय कमांड एसपी ट्रैफिक लोकेश्वर सिंह, परेड एडजुडेंट सीओ शेखर चंद्र सुयाल ने भी अहम जिम्मेदारी निभाई। संचालन एसआइ पूनम प्रजापति एवं फायरमैन मनीष पंत ने किया।

जवानों ने दिखाए हैरतंगेज करतब

राज्य स्थापना दिवस पर सिविल, पीएसी और आइआरबी के जवानों ने एक के बाद एक हैरतंगेज करतब दिखाते हुए कार्यक्रम में चार चांद लगा दिए। खासकर पहली बार एसएसबी जवानों की तरह हिमरक्षक डेयरडेविल्स के मोटर साइकिल दल ने अपने प्रदर्शन से सबको हैरत में डाल दिया। एक ही बाइक पर 19 से ज्यादा सवारियां, हवा में बाइक चलाने, उल्टा-सीधा बैठकर बाइक ड्राइव करने पर खूब वाहवाही लूटी। इसके अलावा श्वान दल ने मुख्य अतिथियों के स्वागत से लेकर, व्यायाम, स्वच्छता अभियान, फायर ड्रिल का प्रदर्शन किया। इसी तरह घुड़सवार पुलिस ने भी एक के बाद एक साहसिक करतब दिखाते हुए दर्शकों को चौंका दिया। पुलिस जवानों ने अमेजिंग राइफल ड्रिल का प्रदर्शन भी किया।  इस दौरान महिला पुलिस कर्मियों ने पुलिस बैंड पर प्रस्तुति दी। बैंड की धुन पर नृत्य पूरे कार्यक्रम में आकर्षण का केंद्र रहा।

आपदा और आंतक पर दिखाया डेमो 

परेड के बाद पुलिस लाइन मैदान में कमांडो दस्ते ने आतंक से निपटने के लिए की जानी वाली कार्रवाई को बखूबी दिखाया। इस दौरान आतंकियों को पकडऩे और ढेर करने जैसे करतब दिखाए गए। इसी तरह एसडीआरएफ के दस्ते ने आपदा के दौरान बचाव कार्य के दौरान निभाई जाने वाली जिम्मेदारी दर्शायी। हेलीकॉप्टर और पहाड़ी रास्तों से चढऩे और उतरने की ड्रील हो या फिर आपदा में फंसे लोगों की मदद, एक के बाद एक डेमो दिखाते हुए शानदार प्रदर्शन किया गया।

ये हुए सम्मानित: डीआइजी गढ़वाल क्षेत्र अजय रौतेला, एसएसपी पौड़ी जगतराम जोशी, एसआइ संतोष कुमार, सेवानिवृत्त सीओ बसंतीलाल, सेना नायक रोशन लाल शर्मा, एसपी हरीश चंद्र सती, इंस्पेक्टर इंद्रसिंह राणा, सेवानिवृत्त पीसी जीत सिंह पोखरिया, गोविंद राम, सीओ सचिवालय सुरक्षा खुशहाल सिंह बिष्ट, सेवानिवृत्त चक्रधर अंथवाल, इंस्पेक्टर महानन्द, दीवान सिंह पीसी विशेष श्रेणी, सहायक सेनानायक कांतिबल्लभ पांडे, सेवानिवृत्त इंस्पेक्टर गोपाल सिंह दसौनी, पीसी सुंदर सिंह, एसआइ महेश चंद्र जोशी, एचसीपी चन्द्रपाल आदि को सम्मानित किया गया।

सितारगंज सर्वोत्तम थाना

पुलिस अनुसंधान एवं विकास ब्यूरो के  मानकों पर खरा उतरने पर ऊधमसिंहनगर के थाना सितारगंज को सर्वोत्तम थाने का पुरस्कार दिया गया। इस मौके पर राज्यपाल और डीजीपी ने थाने के प्रभारी निरीक्षक संजय कुमार को ट्रॉफी प्रदान कर सम्मानित किया। 

राष्ट्रपति ने दी बधाई 

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने ट्विटर पर उत्तराखंड स्थापना दिवस पर राज्य के सभी निवासियों को बधाई के साथ ही शुभकामनाएं दीं। उन्होंने ट्वीट किया कि मेरी कामना है कि यह राज्य, आने वाले वर्षों में निरंतर समृद्ध और विकसित होता रहे।

विकास के पथ पर आगे बढ़े उत्तराखंडः मोदी  

वहीं, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्विटर किया कि- देवभूमि उत्तराखंड के स्थापना दिवस पर राज्य के लोगों को हार्दिक शुभकामनाएं। प्रकृति, प्रगति और समृद्ध संस्कृति की अनमोल संगम-स्थली यह प्रदेश विकास के पथ पर निरंतर नए कीर्तिमान स्थापित करे।

देवभूमि के गौरव को पुनर्स्थापित करने का निरंतर प्रयासः अमित शाह 

भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने उत्तराखंड के स्थापना दिवस पर प्रदेशवासियों को हार्दिक शुभकामनाएं दी। साथ ही ट्विट किया कि श्री अटल बिहारी वाजपेयी जी ने उत्तराखंड का निर्माण किया और आज प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत के नेतृत्व में भाजपा देवभूमि के गौरव को पुनर्स्थापित करने के लिए निरंतर प्रयासरत हैं।

देवभूमि और वीर भूमि है उत्तराखंडः राजनाथ सिंह

केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने भी उत्तराखंड राज्य के स्थापना दिवस पर प्रदेशवासियों को बधाई व शुभकामनाएं देते हुए कहा कि उत्तराखंड देव भूमि है और वीर भूमि भी। यह राज्य अब विकास भूमि के रूप में भी स्थापित हो रहा है। उत्तराखंड उत्तरोत्तर प्रगति करता रहे, यही ईश्वर से कामना है।

कानून व्यवस्था बनाने में पुलिस की भूमिका अहम 

पुलिस लाइन में रैतिक परेड की सलामी लेने के बाद राज्यपाल बेबी रानी मौर्य ने कहा कि समाज में कानून व्यवस्था बनाने में पुलिस की अहम भूमिका है। कार्य की चुनौती को देखते हुए पुलिस को 24 घंटे ड्यूटी कर जिम्मेदारी का बखूबी निभानी पड़ती है। उन्होंने कहा कि 18 सालों में राज्य ने विकास और आर्थिकी में बेहतर प्रदर्शन किया है। अन्य राज्य की तुलना में आर्थिक दर अच्छी रही है। 

उन्होंने कहा कि विकास की चुनौती अभी भी बाकी है। समस्याएं राज्य के सामने है इन सबको दूर करने के कार्य करना होगा। कठिनाइयां मनुष्य का गहना होती है। उन्होंने कहा कि पर्वतीय इलाकों में आर्थिक और रोजगार के साथ शिक्षा की पहुंच को आसान बनाया जाए। साथ ही उन्होंने शिक्षा पर महिलाओं के प्रथम अधिकार की बात कही। 

इस दौरान मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि राज्य के विकास के लिए सरकार ने कही नीतिगत परिवर्तन किया है। उन्होंने आपदा के दौरान पुलिस की भूमिका की सराहना की। कहा कि एक वर्ष के भीतर पुलिस ने नए कीर्तिमान स्थापित किए हैं। साइबर अपराधियों से लेकर आपदा प्रबंधन और अनुशासन में पुलिस ने  मर्यादा का ख्याल रखा है। राज्य में नए कीर्तिमान बनाए।

इस मौके पर बेहतर और सर्वश्रेष्ठ कार्य करने वाले पुलिस पुलिस अधिकारियों और कर्मचारियों को पुलिस पदक से सम्मानित किया गया कार्यक्रम में पर्यटन मंत्री प्रकाश पंत उच्च राज्य मंत्री धन सिंह रावत डीजीपी अनिल कुमार थोड़ी डीजे अशोक कुमार एसपी यूनिवर्सिटी निवेदिता कुकरेती उपस्थित थे। 

यह भी पढ़ें: 18 साल का हुआ उत्तराखंड, ग्रीन बोनस पर मंजिल अभी कोसों दूर

यह भी पढ़ें: विकास की पटरी पर डबल इंजन की सरपट दौड़

Posted By: Bhanu