संवाद सहयोगी, विकासनगर: ब्लॉक संसाधन केंद्र में चल रहे अंग्रेजी भाषा को लेकर शिक्षकों के सेवारत प्रशिक्षण के पांचवें दिन चित्रों, गीतों व कहानी के माध्यम से अंग्रेजी शिक्षण के गुर बताए गए। प्रशिक्षक अमन उपाध्याय ने कहा कि अंग्रेजी भाषा के वर्ण व शब्दों को नौनिहालों तक पहुंचाने के लिए शब्दों से परिचय कराने वाले चित्रों का सहारा लिया जाना चाहिए। जिससे नौनिहाल अंग्रेजी भाषा को भी खुद से जुड़ा हुआ महसूस करें। साथ ही बताया कि अंग्रेजी के शब्दों व वाक्यों के उच्चारण के दौरान संकेतों का प्रयोग किया जाना चाहिए। जिससे कि बच्चे वाक्यों का मतलब आसानी से समझ सकें।

सरकारी स्कूलों में अंग्रेजी भाषा को बढ़ावा दिए जाने के लिए शिक्षा विभाग कई कार्यक्रम संचालित कर रहा है। माध्यमिक स्कूलों में उन्नति कार्यक्रम के साथ ही प्राथमिक विद्यालयों में अंग्रेजी भाषा में सामान्य बोलचाल के सत्तर वाक्यों को प्रत्येक दीवार पर अंकित किया गया है, जिन्हें प्रतिदिन नौनिहाल कक्षाओं में दोहराते हैं। इसके साथ ही सेवारत प्रशिक्षण के तहत शिक्षकों को अंग्रेजी शिक्षण सरलतम रूप में कराने के गुर सिखाए जा रहे हैं। इसके तहत अंग्रेजी में स्थानीयता के उपयोग के साथ ही शिक्षकों को चित्रों व संकेतों के माध्यम से शिक्षण के तरीके बताए जा रहे हैं। छह दिवसीय प्रशिक्षण के तहत मंगलवार को प्रशिक्षक ने शिक्षण में चित्रों के उपयोग का महत्व बताया। साथ ही शिक्षकों की टोली बनाकर चित्रों का उपयोग करते हुए किसी कहानी को अंग्रेजी भाषा में बच्चों तक पहुंचाने की कला बताई। इस दौरान प्रशिक्षक प्रमिला घिल्डियाल, बीना शर्मा, दीपा रानी, गुलाब ¨सह, निर्मला नेगी, सीमा बिष्ट, धर्मेंद्र, ज्ञानचंद राणा, आकांक्षा गर्ग, राकेश जैन, सरस्वती उनियाल, संतोष शर्मा, शशि प्रभा आदि मौजूद रहे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस