संवाद सूत्र, चकराता: मंगलवार को लंबे इंतजार के बाद आखिरकार दिसंबर के दूसरे सप्ताह में जौनसार-बावर की ऊंची पहाड़ियों ने बर्फ की चादर ओढ़ ली। ऊंची पहाड़ियों पर हिमपात के बाद छावनी बाजार चकराता में भी बर्फबारी की हल्की फुहारें शुरू हो गई है। सोमवार रात से लगातार हो रही बारिश व मंगलवार को हिमपात से ठंड के मारे जनजीवन प्रभावित रहा है। लंबे समय बाद हुई अच्छी बारिश से किसानों व बागवानों के चेहरे खिल उठे। वहीं ठंड के कारण छावनी बाजार में आवाजाही कम होने से सन्नाटा पसरा रहा। बाजार में दुकानदार आधे शटर गिराकर अंगीठियां तापकर ठंड से बचाव करते रहे।

लंबे समय बाद चकराता की ऊंची पहाडियों लोखंडी, खडंबा, बुधेर, देववन, मुंडाली में हुए हिमपात से चकराता क्षेत्र में पूरी तरह से ठंड ने दस्तक दे दी है। सोमवार रात को मौसम के बदले मिजाज के साथ ही मंगलवार को क्षेत्र के ऊंचाई वाले पर्यटन स्थलों में जैसे ही मौसम का पहला हिमपात शुरू हुआ, तो चोटियां बर्फ की सफेद चादर से ढक गई। चकराता बाजार में हल्की बर्फ से ठिठुरन बढ़ने पर बाजार में सन्नाटा पसरा रहा। लोगों ने ठंड से बचने को अंगीठियां तापी। लगातार हो रही बारिश व बर्फबारी से चकराता बाजार में अच्छे हिमपात होने की संभावनाएं बढ़ गई हैं। चकराता के व्यापारी अनिल चांदना, अमित जोशी, विवेक अग्रवाल, दिनेश चांदना व सुनील जैन आदि का कहना है कि लंबे इंतजार के बाद चकराता की ऊंची पहाड़ियों पर अच्छा हिमपात हुआ है। अगर मौसम ऐसा ही रहा तो बुधवार को चकराता बाजार बर्फ से ढक जाएगा। समय पर हिमपात होने से पर्यटकों की आमद शुरू होने से बाजार व होटल व्यवसाय बढ़ जाएगा। वन संपदा हरी भरी रहने के साथ ही जल स्त्रोत भी रिचार्ज होंगे। किसानों व बागवानों को लाभ होगा।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस