जागरण संवाददाता, देहरादून: तीसरे वेतनमान का लाभ न मिलने से नाराज बीएसएनएल कर्मचारी और अधिकारी पूर्ण रूप से हड़ताल पर रहे। हड़ताल के चलते सभी टेलीफोन एक्सचेंज में कामकाज पूरी तरह से ठप रहा।

मंगलवार को बीएसएनएल के राजपुर रोड स्थित मुख्य महाप्रबंधक कार्यालय, पटेलनगर एक्सचेंज, क्रॉस रोड एक्सचेंज समेत तमाम एक्सचेंज में कामकाज प्रभावित रहा। कर्मचारियों ने एक्सचेंज के गेट पर धरना दिया और प्रबंधन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। राजपुर रोड स्थित कार्यालय में कर्मचारियों ने केवल मुख्य महाप्रबंधक महक सिंह को कक्ष में जाने दिया, जबकि बाकी सभी अधिकारियों को अपने साथ धरने में ही शामिल कर लिया। बीएसएनएल की सभी एसोसिएशनों ने एकजुट होकर हड़ताल में बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया और केंद्रीय नेतृत्व के खिलाफ हुंकार भरी। एआईबीएसएनएलईए के परिमंडल सचिव बृजमोहन ध्यानी ने बताया कि कर्मचारियों व अधिकारियों को तीसरा वेतन संशोधन 15 प्रतिशत फिटमेंट के साथ दिए जाने और बीएसएनएल में सहायक टावर कंपनी का गठन बंद करने के लिए केंद्रीय नेतृत्व के खिलाफ पूरे उत्तराखंड में दो दिवसीय हड़ताल रहेगी। पहले दिन की हड़ताल असरदार रही और सभी एसोसिएशनों ने इसमें पूरा सहयोग दिया। इस मौके पर बीएसएनएल ईयू के परिमंडल सचिव केएस सौन, एसएनईए के परिमंडल सचिव जय विक्रम सिंह, एनएफटीई के परिमंडल सचिव एबी लाल उनियाल, एआईबीएसएनएलईए के जिला सचिव एसएन पांडेय, अरविंद धीमान, पूरन सिंह बिष्ट, वीएस बिष्ट आदि मौजूद रहे।

बीएसएनएल को भारी नुकसान, उपभोक्ता भी परेशान

बीएसएनएल कर्मचारियों और अधिकारियों की हड़ताल के चलते विभाग को पहले ही दिन भारी नुकसान उठाना पड़ा। एसडीई (प्रोजेक्ट विजय) एसएन पांडेय ने बताया कि पूरे प्रदेशभर में रोजाना ग्राहक सेवा केंद्र से ही रीचार्ज व अन्य सुविधाओं में करीब 50 लाख रुपये की आमदनी होती है। इसके अलावा रोजाना एक ग्राहक सेवा केंद्र पर करीब 25 लोग सिम खरीदने व अन्य काम के लिए पहुंचते हैं। फोन और इंटरनेट का बिल जमा करने के लिए भी उपभोक्ताओं की भीड़ एक्सचेंज में लगी रहती है। लेकिन मंगलवार को काम न होने से सभी उपभोक्ताओं को लौटना पड़ा। इसके अलावा टेलीफोन और ब्रॉडबैंड से संबंधित किसी भी शिकायत का समाधान नहीं हो सका।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस