जागरण संवाददाता, देहरादून: बकाया वेतन का भुगतान व नई कंपनी में समायोजन की मांग को लेकर आपातकालीन सेवा 108 व खुशियों की सवारी से हटाए गए फील्ड कर्मचारियों ने मंगलवार को धरना स्थल से लैंसडौन चौक तक रैली निकाल प्रदर्शन किया। कर्मचारी पिछले 79 दिन से परेड मैदान स्थित धरना स्थल पर प्रदर्शन व क्रमिक अनशन कर रहे हैं। सोमवार को कर्मचारियों ने पुलिस को चकमा देकर मुख्यमंत्री आवास कूच करने का प्रयास किया था।

राज्य सरकार के रवैये से फील्ड कर्मचारी नाराज हैं। यही वजह कि कर्मचारी अब उग्र होने लगे हैं। इस स्थिति में पुलिस-प्रशासन की भी मुश्किलें बढ़ गई हैं। सचिवालय से लेकर मुख्यमंत्री आवास कूच तक, पुलिस को इन्हें रोकने के लिए हल्का बल तक प्रयोग करना पड़ा था। कर्मचारियों का कहना है कि मांग पूरी नहीं होने तक उनका आंदोलन जारी रहेगा। कहा कि ग्यारह साल तक आपातकालीन सेवा 108 से जुड़कर जरूरतमंद मरीजों की सेवा करने व आपात परिस्थिति में मरीजों की जान बचाने के बाद उन्हें बेरोजगारी इनाम मिली है। यही नहीं, बीते अप्रैल के वेतन का भुगतान भी नहीं किया गया है। कहा कि सात सौ से अधिक फील्ड कर्मचारियों के सामने परिवार के भरण-पोषण का संकट खड़ा हो गया है। बावजूद इसके सरकारी तंत्र उनकी सुध लेने की जहमत तक नहीं उठा रहा है। ऐसे में उनके सामने आंदोलन के सिवाय कोई विकल्प नहीं बचा है। संगठन के सचिव विपिन जमलोकी का कहना है कि नई कंपनी में पुराने वेतनमान पर समायोजित होने और बकाया वेतन का भुगतान होने तक आंदोलन जारी रहेगा।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप