संवाद सहयोगी, टनकपुर : शारदा नदी में स्नान करने गया छात्र तेज बहाव में बह गया। तैराक पुलिस टीम उसकी खोजबीन में जुटी हुई है। सूचना पर पहुंचे परिजनों में कोहराम मच गया है। मां का रो-रो कर बुरा हाल है।

जीआइसी टनकपुर में हाईस्कूल में पढ़ रहा 14 वर्षीय छात्र नीरज कुमार पुत्र गोविंद कुमार हाल निवासी घसियारामंडी शनिवार को अपने साथी रघुवीर सिंह पुत्र मिलाप सिंह के साथ शारदा नदी में स्नान करने को गया था। नहाते समय नीरज नदी के तेज बहाव में बहने लगा। नदी के किनारे बैठे उसके साथी रघुवीर ने बचाव के लिए हो-हल्ला किया। सूचना मिलने पर टनकपुर शारदा घाट में तैनात तैराक पुलिस टीम व स्थानीय तैराकों ने नदी में नीरज की काफी खोजबीन की। लेकिन उसका कोई पता नही लग सका। घटना की सूचना मिलने पर एसडीएम अनिल चन्याल, प्रभारी निरीक्षक उत्तम सिंह, एसआई जर्नादन भट्ट व पुलिस टीम शारदा नदी क्षेत्र पहुंचे। समाचार लिखे जाने तक तैराक पुलिस टीम छात्र की खोजबीन में जुटी हुई थी। गोविंद कुमार मूल रूप से लोहाघाट के तल्ला बापरू के रहने वाले है। वह अपने बच्चों की पढ़ाई के लिए पिछले पांच वर्ष से टनकपुर घसियारामंडी में किराए के मकान में रह रहे हैं। नदी में डूबा छात्र चार बहन व दो भाईयों में सबसे छोटा है। नीरज शनिवार को विद्यालय में हाफ -डे के चलते जल्दी छुट्टी होने के कारण अपने साथियों के साथ शारदा नदी में पहुंचा। घटना के बाद से परिवार काफी सदमे में है। इंसेट

तैराक पुलिस टीम अलर्ट होती तो घटना टल सकती थी टनकपुर : शारदा नदी के घाट क्षेत्र में नहाते समय डूबे छात्र की घटना से वहां तैनात पुलिस व तैराक पुलिस टीम के सुरक्षा प्रणाली पर भी सवालिया निशान लग गए है। इन दिनों पूर्णागिरि मेले के चलते टनकपुर कोतवाली के अलावा बाहरी जनपदों से अतिरिक्त पुलिस फोर्स के साथ स्पेशल तैराक पुलिस टीम भी शारदा घाट क्षेत्र में तैनात की गई है। जिस स्थान पर छात्र डूबा है, उस स्थान पर हर रोज छोटे बच्चे काफी संख्या में स्नान के लिए आते है। लेकिन पुलिस द्वारा इन बच्चों को नहाने के लिए रोका टोका नहीं जाता है। शनिवार को घटी इस घटना ने पुलिस के कार्य प्रणाली की भी पोल खोल दी है। छात्र को बचाने के लिए पुलिस टीम से पहले स्थानीय तैराक ही नदी में कूदे। जबकि घटना के पास ही हर समय तैराक पुलिस टीम रहती है। यदि पुलिस ने थोड़ी भी सतर्कता बरती होती तो नीरज को डूबने से बचाया जा सकता था। जागरण पूर्व में भी प्रशासन को कर चुका है आगाह

टनकपुर : शारदा घाट पर पानी न होने के कारण लोग तेज बहाव में नहाने जाते हैं। बच्चे ही नहीं काफी संख्या में श्रद्धालु भी उसी बहाव में स्नान करते हैं। दैनिक जागरण पूर्व के अंकों में तेज बहाव से होने वाली घटना से आगाह कर चुका है लेकिन प्रशासन की कान में जूं नहीं रेंगी। शारदा नदी किनारे लाखों रुपये की लागत से घाट बनाया गया है लेकिन घाट तक प्रशासन पानी उपलब्ध नहीं करा पाया। घाट पर जो पानी है वह भी रूका हुआ है। जिसमें श्रद्धालु स्नान करना पसंद नहीं करते। वह साफ पानी की तलाश में तेज बहाव में नहाने चले जाते हैं। जबकि उस स्थान पर भी प्रशासन ने नदी के तेज बहाव में जाने से रोकने के लिए कोई ठोस प्रबंध नहीं किए हैं।

Posted By: Jagran