चंपावत, [जेएनएन]: शहर में बढ़ रहे वाहनों व उससे होने वाले प्रदूषण को देखते हुए चंपावत डीएम ने अनोखी पहल की है। डीएम ने जारी फरमान में कहा है कि मुख्यालय पर काम करने वाले अधिकारी व कर्मचारी साइकिल से दफ्तर आएंगे। केवल आवश्यक भ्रमण या फिर बीमार होने की स्थिति में ही वाहन का प्रयोग करने की छूट रहेगी। उन्होंने शनिवार को नो कार डे घोषित किया है।

पर्वतीय क्षेत्र में पेड़ों का कटान जहां तेजी से हो रहा है तो प्रदूषण की मात्रा भी तेजी से बढ़ी है। यही नहीं यातायात की समस्या भी इस कदर बढ़ गई है कि तमाम प्लानिंग के बाद भी इस पर नियंत्रण नहीं हो पा रहा है।

बीते दिनों कलक्ट्रेट सभागार में हुई सड़क सुरक्षा कमेटी की बैठक में इस समस्या पर लंबी चर्चा चली। जिसमें अधिकारियों व आमजन ने कई सुझाव रखे। इन्हीं सुझावों को दृष्टिगत रखते हुए डीएम डॉ. अहमद इकबाल ने पर्यावरण संरक्षण, सेहत व यातायात समस्या का हवाला देते हुए आदेश जारी किया है।

जिसमें कहा है कि जिला मुख्यालय पर पूल्ड आवास समेत अन्य स्थानों पर रहने वाले अफसर अपने-अपने वाहनों को आवास पर ही छोड़कर साइकिल से ऑफिस जाएंगे। आवश्यक कार्य व भ्रमण के दौरान ही वाहन का प्रयोग करेंगे। अगर किसी की तबीयत खराब है या फिर चलने में असमर्थ है तो वह वाहन का प्रयोग कर सकता है। उन्होंने कहा कि शनिवार को नो कार डे रहेगा। जिसमें आवश्यक कार्य को छोड़कर अफसर-कर्मचारी वाहन का बिल्कुल भी प्रयोग नहीं करेंगे। 

विभागीय मद से खरीदें साइकिल

डीएम डॉ. इकबाल ने बताया कि इसकी शुरूआत के लिए चार-पांच साइकिलें खरीदीं जाएंगी। अन्य विभाग अपनी मद से साइकिल खरीद लें तथा उसका अधिक से अधिक प्रयोग करें। अभी यह आदेश जिला मुख्यालय में लागू है इसके बाद तहसीलों में भी यह आदेश जारी कर दिया जाएगा।

 

यह भी पढ़ें: बर्फ में छह किमी पैदल चलकर डीएम ने बढ़ाया मजदूरों का हौसला

यह भी पढ़ें: चिकित्सक का धर्म भी पूरा कर रहे डीएम और एसएसपी

Posted By: Sunil Negi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप