संवाद सहयोगी, चम्पावत : राज्य के राजस्व सचिव ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये चम्पावत जिले में स्वामित्व योजना के क्रियान्वयन की समीक्षा की। उन्होंने जिलाधिकारी को योजना से संबंधित सभी सर्वे तथा चिन्हीकरण के कार्य में तेजी लाने के निर्देश दिए। कहा कि आवास भूमि तथा कृषि भूमि का अलग-अलग चिन्हीकरण होना चाहिए।

जिलाधिकारी विनीत तोमर ने बताया कि जनपद में 115 गांवों की मार्किंग करने के साथ 109 गावों का हवाई सर्वेक्षण भी कर लिया गया है। बताया कि बरसात की वजह से सर्वेक्षण में कुछ समस्या आई। उन्होंने राजस्व सचिव को इस कार्य में और अधिक तेजी लाने के लिए आश्वस्त किया। सर्वे और मार्किंग के लिए जिले में दो टीमें कार्य कर रही हैं। जिलाधिकारी ने बताया कि जरूरी हुआ तो टीमों की संख्या बढ़ाने पर विचार किया जाएगा। ताकि स्वामित्व चिन्हीकरण कार्य में तेजी लाई जा सके।

बैठक में अपर जिलाधिकारी शिवचरण द्विवेदी समेत राजस्व विभाग के कई अन्य अधिकारी भी मौजूद रहे। इससे पूर्व जिलाधिकारी ने चम्पावत के एसडीएम अनिल चन्याल, टनकपुर के हिमांशु कफल्टिया समेत लोहाघाट एवं पाटी के एसडीएम को योजना के क्रियान्वयन में संबंधित क्षेत्रों में हुई प्रगति की जानकारी ली। उन्होंने इस महत्वाकांक्षी योजना का क्रियान्वयन समय पर पूरा करने के निर्देश दिए। टनकपुर के एसडीएम ने बताया कि पूर्णागिरि तहसील क्षेत्र में सर्वे और चिन्हीकरण का कार्य तेजी से चल रहा है।

ग्राम पंचायत डैसली के राप्रावि में शनिवार को समाज कल्याण विभाग का बहुउद्देशीय शिविर लगाया गया। जिसमें विधवा व वृद्धा पेंशन, दिव्यांग, यूडीआइडी, राशन कार्ड सहित 46 प्रमाण पत्र तैयार किए गए। समाज कल्याण अधिकारी रवींद्र सिंह सामंत ने विभाग की विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं के बारे में विस्तारपूर्वक जानकारी दी। सीएमओ डा.आरपी खंडूरी ने विभिन्न रोगों के बचाव बारे में जानकारी दी। पशुपालन व कृषि विभाग ने स्टाल लगाकर दवाईयां व कृषि यंत्र वितरित किए। संचालन द्वारिका प्रसाद ने किया। इस दौरान पीएमएस डा.एचएस ऐरी, डा.विराज राठी, कमल जोशी, खंड विकास अधिकारी एमसी परगाई, सुरेश सिंह, एमडी भट्ट, दीपक गहतोड़ी, बसंत कुमार, सुनील भट्ट मौजूद रहे।

Edited By: Jagran