जागरण संवाददाता, चम्पावत/लोहाघाट : ऑल वेदर रोड निर्माण की सुस्त गति पर मुख्य सचिव की नाराजगी के बाद मंगलवार को डीएम डॉ. अहमद इकबाल ने दलबल के साथ घाट से लेकर टनकपुर तक निरीक्षण किया। सुस्त गति में हो रहे कार्य, मार्ग में उड़ रही धूल पर डीएम बिफर पड़े। इस लापरवाही पर उन्होंने कंपनी को अंतिम व दूसरा नोटिस दिया। मोड़ों पर रखे मलबे व बोल्डर को एक सप्ताह में हटाने के निर्देश दिए। साथ ही कहा कि अगर इनसे कोई हादसा हुआ तो कंपनी जिम्मेदार होगी और उनसे उसकी भरपाई कराई जाएगी। अगर कंपनी से समय से कार्य पूरा नहीं तो कार्य छिनने के साथ प्रतिदिन के हिसाब से पेनाल्टी वसूली जाएगी। गया है।

चम्पावत से टनकपुर की ओर आल वेदर सड़क के निरीक्षण के दौरान कई स्थानों पर चट्टानों में बोल्डरों के लटके होने, मोड़ों पर मलबा पड़ा होने, कम मशीनरी, कार्य की सुस्त रफ्तार पर डीएम डॉ. इकबाल कार्यदायी संस्था शिवालिया के प्रबंधक पर बिफर पड़े और स्पष्ट शब्दों में चेतावनी देते हुए कहा कि अगर कार्य में प्रगति नहीं दिखी तो प्रतिदिन के आधार पर पेनाल्टी लगाने के साथ कंपनी को कार्य से पृथक करने हेतु शासन को अवगत कराया जाएगा। डीएम ने ईई एनएच को पर भी बिफर पड़े निरीक्षण में लापरवाही करने पर लताड़ा। उन्होंने सड़क चौड़ीकरण में लगातार पैनी नजर रखने, मलबे को मोड़ों पर से हटाने, लटक रहे बोल्डरों को तत्काल हटाने, सड़क को 15-20 मिनट से अधिक बाधित न करने के आदेश एनएच को दिए। उन्होंने सख्त स्वर में कहा कि अगर मलबे से कोई दुर्घटना हुई तो कार्यदाई संस्था की जिम्मेदारी मानते हुए उनके विरूद्ध कानूनी कार्रवाई अमल में लायी जाएगी। डीएम ने सड़क सुरक्षा हेतु निर्मित की जा रही दीवारों पर भी नाराजगी व्यक्त की और मानक के अनुसार निर्माण करने, गुणवत्ता से किसी भी तरह का समझौता न करने को कहा। इससे पूर्व उन्होंने प्रथम चरण में चम्पावत से घाट तथा पंचेश्वर डूब क्षेत्र में आ रहे पनार पुल का स्थलीय निरीक्षण किया। निरीक्षण के दौरान उन्होंने गुरुकुलम के पास सड़क से मिट्टी हटाने के निर्देश एनएच को दिए। साथ ही बिना अनुमति के डंपिंग जोन से बाहर मिट्टी डालने पर नोटिस जारी कर पेनाल्टी वसूलने के निर्देश दिए। कई स्थानों पर सड़क की कटिंग वर्टिकल न होकर सीधी रखने पर जिलाधिकारी ने नाराजगी जताते हुए कटिंग वर्टिकल सेफ में लाने के निर्देश दिए। डंपिंग जोन का ढलान सड़क की ओर न रखने के साथ बापरू में सड़क किनारे के भवनों का भूगर्भ वैज्ञानिक से सर्वे कर सुरक्षा दीवार को प्राथमिकता देने निर्देश दिए। जल संरक्षण के लिए वैज्ञानिक सलाह लेने की बात कही

जल संस्थान को जल स्त्रोतों का संरक्षण करने हेतु भूगर्भ वैज्ञानिक का सहयोग लेने को कहा। उन्होंने लगातार सड़क पर पानी का छिड़काव करने, एआरटीओ को वाहनों के ओवरटेकिंग में अंकुश लगाने, रोडवेज को वाहन चलाते वक्त सड़क में हो रही परेशानी वाले स्थानों की सूची उपलब्ध कराने के निर्देश दिए। इस अवसर पर पुलिस अधीक्षक धीरेंद्र गुंच्याल, डीएफओ कुबेर सिंह बिष्ट, एसडीएम सीमा विश्वकर्मा, आरसी गौतम, एआरटीओ रश्मि भट्ट, ईई विद्युत, जल संस्थान, एआरएम, आपदा प्रबंधन अधिकारी मनोज पांडेय आदि मौजूद रहे।

By Jagran