संवाद सहयोगी, चम्पावत : रोडवेज बस अड्डे में निर्माणाधीन कैंटीनों की निविदाओं में हुई गड़बड़ी की शिकायत अब मुख्यमंत्री पोर्टल तक पहुंच गई है। नगर निवासी भुवन चंद्र पांडेय ने 17 अक्टूबर को मुख्यमंत्री पोर्टल में शिकायत दर्ज करते हुए कहा है कि चम्पावत बस अड्डे में बनाई जा रही कैंटीनों के लिए आमंत्रित की गई निविदाओं में बड़े पैमाने पर धांधली की गई है।

उन्होंने कहा है कि परिवहन निगम टनकपुर ने कुछ लोगों को फायदा पहुंचाने की नीयत से उन समाचार पत्रों में निविदाएं प्रकाशित की, जिनका सर्कुलेशन जिला मुख्यालय में नहीं है। उन्होंने कहा है कि रोडवेज के एमडी ने कैंटीन का निमार्ण कार्य विवादों का निपटारा न होने तक रोकने के निर्देश दिए थे, किंतु विभागीय अधिकारियों ने अनुपालन नहीं किया। इस शिकायत को पोर्टल के रजिस्ट्रेशन नम्बर 37339 पर दर्ज किया गया है। बता दें कि इससे पूर्व 17 अक्टूबर को उन्होंने जिलाधिकारी को ज्ञापन सौंपकर मामले में गड़बबड़ी का आरोप लगा नए सिरे से निविदाएं आमंत्रित करने की मांग की थी। मालूम हो कि निविदाएं बाहरी समाचार पत्रों में प्रकाशित किए जाने के बाद कैंटीनों के निर्माण को लेकर विवाद पैदा हो गया था। नगर के कुछ व्यापारियों के अलावा चम्पावत विकास संघर्ष समिति के लोगों ने इसकी शिकायत रोडवेज के एमडी एवं बस अड्डे के निर्माण के दौरान यहां के डीएम रहे रणबीर सिंह चौहान से की थी। इसके बाद एमडी ने एआरएम टनकपुर पवन मेहरा को काम रुकवाने के निर्देश दिए थे। एमडी के निर्देश के बाद आरएम ने कुछ दिन तक काम बंद करवा दिया, लेकिन पिछले दिनों से निर्माण कार्य फिर से शुरू कर दिया गया है।

::इंसेट

एल-1 अधिकारी के पास पहुंची जांच

शिकायत की जांच एल-1 स्तर के अधिकारी एआरएम को सौंप दी गई है। सूत्रों के अनुसार एआरएम ने मामले की जांच भी शुरू कर दी है। बताया जा रहा है कि शिकायतकर्ता से मामले की पूरी जानकारी लेने के बाद दूसरे पक्ष से पूछताछ की जा रही है।

सूचना विभाग ने भी निगम को लिया आड़े हाथ

जिला सूचना अधिकारी एनएस बिष्ट ने निगम अधिकारियों को पत्र लिखकर निगम द्वारा भेजे विज्ञापन की सूचना विभाग द्वारा रिसीव कॉपी मांगी गई है। इससे निगम अधिकारियों में खलबली मच गई है। कारण कि सूचना अधिकारी कई बार मौखिक तौर पर रिसीव कॉपी मांग चुके हैं, लेकिन निगम अधिकारी देने में आनाकानी कर रहे हैं। बता दें कि निगम आरएम टनकपुर पवन मेहरा का कहना है कि निविदाओं का प्रकाशन सूचना विभाग के माध्यम से ही करवाया गया है। इसकी रिसीव कॉपी उनके पास उपलब्ध है। लेकिन सूचना विभाग निगम आरएम के बयानों को बेबुनियाद बताते हुए वह रिसीव कॉपी मांग रहा है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस