जागरण संवाददाता, चम्पावत : जिला अस्पताल में कभी मरीज तो कभी तीमारदारों द्वारा हंगामा व गालीगलौज करना आम बात हो गई है। शुक्रवार रात्रि महिला का उपचार कराने आए दो तीमारदारों ने जमकर हंगामा काटा। तीमारदारों ने डॉक्टर व स्टाफ कर्मचारियों के साथ गालीगलौज करने के साथ जान से मारने की धमकी दी। इसमें से एक युवक अपने आप को सेट्यूड़ा का ग्राम प्रधान बता रहा था। सूचना पर पहुंचे सीएमएस ने कोतवाली में घटना की तहरीर दी।

जनपद मुख्यालय के ग्राम सेट्यूड़ा निवासी गोविंदी सिंह पत्‍‌नी मदन सिंह की शुक्रवार शाम अचानक सांस फूलने लगी। हालत ज्यादा खराब होने पर वह पति मदन सिंह के साथ रात्रि साढ़े दस बजे जिला अस्पताल आ गई। इमरजेंसी में तैनात डॉ. रवि कुमार, फार्मासिस्ट प्रमोद कुमार, वार्ड बायॅ निर्मल बिनवाल ने मरीज को अटेंड किया। साथ ही चेकअप किया। उपचार के बाद महिला की हालत ठीक हो गई। डॉक्टर का आरोप है कि इसी बीच चौड़ासेठी निवासी बच्ची सिंह पुत्र अमर सिंह शराब के नशे में इमरजेंसी में घुसा और गालीगलौज करने के साथ अस्पताल में रखे सामान के साथ तोड़फोड़ करने लगा। जब कर्मचारियों ने उसे रोकने का प्रयास किया तो तीमारदार मदन सिंह भी आक्रोशित होकर गालीगलौज करने लगा। वह अपने आप को ग्राम प्रधान बताकर जान से मारने की धमकी देने लगा। कर्मचारियों ने घटना की सूचना गश्ती पुलिस व सीएमएस को दी। जिसके बाद वह महिला को लेकर भाग खड़े हुए। सूचना पर सीएमएस डॉ. आरके जोशी, एसीएमओ डॉ. इंद्रजीत पांडे, डॉ. चंद्रशेखर द्विवेदी भी मौके पर पहुंचे जब तक तीमारदार चले गए थे। सीएमएस को सौंपा ज्ञापन

पूर्व में भी हो चुकी इस प्रकार की घटनाओं को ध्यान में रखते हुए शनिवार को चिकित्सालय के स्टाफ ने सीएमएस डॉ. जोशी को ज्ञापन सौंप आरोपितों की गिरफ्तारी व पुलिस कर्मी तैनात करने की मांग की। ज्ञापन देने वालों में डॉ. रवि कुमार, डॉ. बैंकटेश द्विवेदी, डॉ. सुष्मा नेगी, डॉ. विवेक सिंह, डॉ. अजय कुमार, विकास कुमार, नीलावती, कमला थापा आदि थे।

कोतवाली में दी तहरीर

सीएमएस आरके जोशी चिकित्सालय के डॉक्टर व अन्य स्टाफ के साथ अभद्रता करने पर मदन राम निवासी ग्राम सेट्यूड़ा के खिलाफ कोतवाली में तहरीर दी है। तहरीर में सरकारी कार्य में बाधा उत्पन्न करने तथा डॉक्टरों व स्टाफ को जान से मारने की धमकी देने की बता कहते हुए कठोर कार्रवाई की बात कही है।

चिकित्सालय में सुरक्षा के लिए एसपी को भेजा था पत्र

सीएमएस डॉ. आरके जोशी ने एक जून को पुलिस अधीक्षक डीएस गुंज्याल को पत्र लिख चिकित्सालय में डॉक्टरों व स्टाफ के साथ हो रही अभद्रता की घटनाओं व जान से मारने की धमकी दिए जाने पर जिला चिकित्सालय में पुलिस आरक्षी व होमगार्ड तैनात करने की मांग की है। पत्र में सीएमएस ने कुमांऊ मंडल आयुक्त के निर्देशों का हवाला भी दिया था। जिसमें आयुक्त ने जिले के प्रत्येक चिकित्सालय में दो पुलिस कर्मी व होमगार्ड तैनात करने के निर्देश दिए थे। लेकिन उसके बाद भी चिकित्सालय में पुलिस आरक्षी व होमगार्ड की तैनाती नहीं की गई।

वर्जन

चिकित्सालय में आए रात्रि में मरीज के तीमारदारों द्वारा ड्यूटी पर मौजूद डॉक्टरों व अन्य स्टाफ के साथ गालीगलौज की जाती है। जिससे चिकित्सालय के स्टाफ में आक्रोश व्याप्त है। आरोपितों के खिलाफ कोतवाली में तहरीर दे दी गई है। साथ ही पुलिस विभाग से चिकित्सालय में पुलिस आरक्षी व होमगार्ड तैनात करने की मांग की है।

- आरके जोशी, सीएमएस जिला चिकित्सालय।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप