गैरसैंण(चमोली), जेएनएन। उत्तराखंड क्रांति दल ने भाजपा और कांग्रेस को आड़े हाथों लिया। उन्होंने कहा, दोनों ही पार्टियों ने गैरसैंण राजधानी के नाम पर जनता को बरगलाने का काम किया है। पार्टी ने इसके विरोध में भराड़ीसैंण स्थित विधानसभा भवन के मुख्य द्वार पर उपवास किया।  

उक्रांद के पूर्व केंद्रीय अध्यक्ष त्रिवेंद्र सिंह पंवार के नेतृत्व में कार्यकर्ताओं ने भराड़ीसैंण विधानसभा भवन के मुख्य द्वार पर भाजपा और कांग्रेस के खिलाफ उपवास किया। इस दौरान पंवार ने कहा कि राज्य निर्माण से लेकर गैरसैंण राजधानी तक के मुद्दे पर जनता के साथ छलावा किया है। वहीं, उपवास कार्यक्रम में केंद्रीय मुख्य प्रवक्ता सतीश सेमवाल ने कहा कि गैरसैंण राजधानी के मुद्दे पर उनका दल ईमानदारी से संघर्ष कर रहा है। उन्होंने प्रदेश सरकार से तीन माह में भराड़ीसैंण में राज्य स्तरीय शहीद स्मारक का निर्माण करने की मांग की। उन्होंने कहा, अगर सरकार ये नहीं कर पाई तो उक्रांद जन सहयोग से भराड़ीसैंण मे शहीद स्मारक का निर्माण करेगा। 

उनका ये भी कहना है कि विधानसभा सत्र कहां, कब और कितना चलेगा यह कार्य मंत्रणा समिति में तय होता है, जिसमें नेता प्रतिपक्ष की अहम भूमिका होती है। ऐसे में साफ है कि गैरसैंण में सत्र न चलाना भाजपा, कांग्रेस की आपसी सहमति से तय किया गया है। उन्होंने पूर्व सीएम हरीश रावत पर भी निशाना साधा। कहा कि हरीश रावत का गैरसैंण उपवास नौटंकी मात्र है। 

यह भी पढ़ें: Uttarakhand cabinet meet: कैबिनेट में कई अहम फैसलों पर लगी मुहर, होमगार्ड्स को मिलेगा 18000 मानदेय

उक्रांद के नेता गणेश भट्ट ने कहा कि युवा ही राष्ट्रीय दलों को सबक सिखा सकते हैं। आने वाले विधान सभा चुनाव में युवाओं की भूमिका को और सक्रिय किया जाएगा। इससे पहले उक्रांद कार्यकर्ताओं ने भाजपा-कांग्रेस के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। कार्यक्रम में जिलाध्यक्ष अरुण शाह, गजपाल सिंह रावत, महिपाल सिंह रावत, सर्वेश्वर पुरोहित, केन्द्रीय कार्यलय प्रभारी किशन सिंह रावत, मीडिया प्रभारी संजय क्षेत्री, मंगल सिंह सजवाण, चंद्र सिंह सहित अन्य कार्यकर्ता मौजूद थे।

यह भी पढ़ें: Uttarakhand Vidhan sabha Winter Session: विधानसभा केे शीतकालीन सत्र में महंगाई के मुद्दे पर विपक्ष ने किया हंगामा

Posted By: Raksha Panthari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस