गैरसैंण, [राज्य ब्यूरो]: गैरसैंण के निकट भराड़ीसैंण में स्थित विधानसभा भवन में शीतकालीन सत्र के पहले दिन छह विधेयकों को अधिनियम बनाने की स्वीकृति प्रदान की गई। सदन में दो विधेयक पारित किए गए और सात नए विधेयक पेश किए गए। वित्त एवं संसदीय कार्य मंत्री प्रकाश पंत ने सदन में पहले दिन अनुपूरक बजट भी प्रस्तुत किया।

 ये विधेयक बने अधिनियम

-उत्तराखंड विनियोग विधेयक।

-उत्तराखंड सहकारी समिति (संशोधन) विधेयक।

-उत्तराखंड मूल्य वर्धित (संशोधन) विधेयक।

-उत्तराखंड माल एवं सेवाकर (प्रथम संशोधन) विधेयक।

-उत्तराखंड भूगर्भ जल (विकास एवं प्रबंधन का विनियम एवं नियंत्रण)  (निरसन) विधेयक।

-उत्तराखंड राज्य विधानमंडल (अनर्हता निवारण) (संशोधन) विधेयक।

 ये विधेयक किए गए पेश

-उत्तराखंड दुकान एवं स्थापन (रोजगार विनियमन और सेवाशर्तें) विधेयक।

-उत्तराखंड मदरसा शिक्षा परिषद (संशोधन) विधेयक।

-उत्तराखंड चलचित्र (विनियमन)  (संशोधन) विधेयक।

-सराय अधिनियम (निरसन) विधेयक।

-उत्तराखंड आधार (वित्तीय और अन्य सहायिकाओं, प्रसुविधाओं और सेवा का लक्षित परिदान) विधेयक।

-उत्तराखंड (उत्तर प्रदेश जमींदारी विनाश एवं भूमि व्यवस्था अधिनियम, 1950)  (अनुकूलन एवं उपांतरण आदेश 2001) (संशोधन) विधेयक।

-उत्तराखंड (उत्तर प्रदेश संयुक्त प्रांत आबकारी अधिनियम 1910) (अनुकूलन एवं उपांतरण आदेश, 2002) (संशोधन) विधेयक।

 सदन में रखे गए अध्यादेश व रिपोर्ट

-उत्तराखंड (उत्तर प्रदेश नगर निगम अधिनियम 1959) (संशोधन) अध्यादेश।

-उत्तराखंड (उत्तर प्रदेश संयुक्त प्रांत आबकारी अधिनियम 1910) (अनुकूलन एवं उपांतरण आदेश, 2002) (संशोधन) अध्यादेश।

-उत्तराखंड लोक सेवा आयोग का सोलहवां वार्षिक प्रतिवेदन।

-उत्तराखंड विद्युत नियामक आयोग के वार्षिक लेखा विवरण व वार्षिक रिपोर्ट। 

 

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड में दो राजधानी का पुरजोर विरोध करूंगा: किशोर

यह भी पढ़ें: गैरसैंण को ग्रीष्मकालीन राजधानी बनाने का वादा जल्द होगा पूरा

यह भी पढ़ें: यूपी में योगी हुए पास, उत्तराखंड में अब त्रिवेंद्र की परीक्षा

By Sunil Negi