संवाद सूत्र, कर्णप्रयाग:

विकासखंड कर्णप्रयाग के दूरस्थ गांवों के ग्रामीणों ने लंबित पड़े मोटर मार्गो को शीघ्र बनाए जाने की मांग की है। इस संबंध में उन्होंने उपजिलाधिकारी कर्णप्रयाग के माध्यम से प्रदेश सरकार को ज्ञापन भेजा। कहा कि यदि मांग पर शीघ्र कार्रवाई नहीं हुई तो आंदोलन किया जाएग।

सालों से तहसील कर्णप्रयाग के दूरस्थ ग्रामीण अंचलों के कई मोटर मार्ग विभागीय अधिकारियों की अनदेखी के चलते अधर में लटके हैं। बगोली-चूला मोटर मार्ग निर्माण में हो रही देरी पर ग्रामीणों ने रोष जताते हुए कहा कि 13 किलोमीटर स्वीकृत मोटर मार्ग पर वर्ष 2016 से कार्य गतिमान है, लेकिन इसके बाद भी मार्ग का कार्य अधर में लटका हुआ है। इसी तरह डिम्मर-कालूसैंण मोटर मार्ग के विस्तारीकरण को लेकर ग्रामीणों ने कहा कि वर्ष 2015 में स्वीकृत मोटर मार्ग विस्तारीकरण लोनिवि गौचर की लापरवाही के चलते नहीं हो पाया है। ग्रामीण शंभू प्रसाद, सुभाष, प्रेम सिंह, खिलाफ सिंह, रघुवीर सिंह, पुष्कर सिंह ने कहा कि मोटर मार्ग विस्तारीकरण न होने से स्वर्का, कुंडडुंग्रा, बणसोली, बरमोली के लगभग 2000 जनसंख्या की आबादी आज भी सात किमी पैदल आवाजाही करने को मजबूर है। सबसे अधिक परेशानी स्कूली बच्चों व बीमार महिलाओं व बुजुर्गो को अस्पताल पहुंचाने की हो रही है। कहा कि यदि मांग शीघ्र पूरी नहीं हुई तो आंदोलन किया जाएगा। वहीं इस संबंध में उपजिलाधिकारी कर्णप्रयाग देवानंद शर्मा ने बताया कि लंबित मोटर मार्गो के संबंध में जिम्मेदार विभागों से जबाब मांगे गए हैं।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप