संवाद सूत्र, कर्णप्रयाग: क्षेत्र पंचायत कर्णप्रयाग की बैठक में बदहाल पेयजल व्यवस्था, स्वास्थ्य, शिक्षा, विद्युत, स्वजल परियोजना समेत कई मुद्दों पर चर्चा की गई। इस दौरान ग्राम पंचायतों में जारी सोशल ऑडिट पर सदस्यों ने तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की। उन्होंने लंबित समस्याओं के निदान में अधिकारियों की ओर से की जा रही लेटलतीफी पर नाराजगी भी जताई।

शुक्रवार को ब्लॉक प्रमुख राधा देवी की अध्यक्षता में आयोजित बैठक में प्रधानसंघ अध्यक्ष खिलदेव सिंह सहित अन्य सदस्यों ने ग्राम पंचायतों में चल रहे सोशल ऑडिट पर जमकर हंगामा काटा। कहा कि एक ग्राम पंचायत में 40 से 50 हजार रुपये की राशि इस निरीक्षण के नाम पर व्यय हो रही है जिसे किस मद से किया जाना है किसी के पास जबाब नहीं। प्रधान सुमन डिमरी ने कहा कि ग्रामीण वर्षो से मोटर मार्गो पर डामरीकरण की फरियाद करते थक चुके हैं लेकिन समय पर डामरीकरण न कर राजनीति की जा रही है। इस मौके पर सदस्यों ने कनखल, सेनू में स्वजल द्वारा बनी पेयजल योजनाओं पर पानी न चलने, बदहाल विद्युत पोल व लाईन से खतरे की आशंका, कनखुल प्रधान भगवान सिंह कंडवाल ने तल्ला कनखुल में बनी स्वजल पेयजल योजना की जांच करने का मामला प्रमुखता से रखा। प्रधान शीला देवी ने गोगनपाणी-खत्याड़ी पेयजल योजना का निर्माण करने का मामला उठाते हुए अधिकांश जर्जर योजनाओं के पुर्नगठन की मांग सीडीओ के सम्मुख रखी। इस मौके पर क्षेत्रीय विधायक सुरेन्द्र सिंह नेगी ने कहा कि लंबित समस्याओं के निस्तारण में अधिकारीगण तत्परता से कार्य करें।

--------------------

नमामि गंगे के कार्यो में अनियमिता

प्रधान कालेश्वर हरीश चौहान ने कालेश्वर में खनन से हुए खड्डों को शीघ्र न भरे जाने की दशा में बीमारी की आशंका जताते हुए किटनाशकों के छिड़काव को जरूरी बताया। कहा गया कि कर्णप्रयाग, गौचर, कालेश्वर, उत्तरों में सिंचाई विभाग द्वारा जारी नमामि गंगे के तहत हो रहे निर्माण में अनियमितता बरती जा रही है जिसकी उच्चस्तरीय जांच की जानी चाहिए। जिस पर उपस्थित सीडीओ ने शिकायत मिलने पर जांच का आश्वासन सदस्यों को दिया।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप