हाइड्रोलिक ट्राली में आई खराबी, छह

घंटे तक नदी किनारे फंसे रहे ग्रामीण

संवाद सूत्र, देवाल : चमोली जिले के देवाल विकासखंड स्थित ओडर गांव के ग्रामीणों की आवाजाही के लिए पिंडर नदी पर लगाई गई हाइड्रोलिक ट्राली आए दिन खराब हो रही है। इससे क्षेत्रवासियों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। गुरुवार को भी इस ट्राली पर अचानक खराबी आ गई। इससे कुछ गांव के 25 लोग बाजार नहीं जा सके। वहीं बाहरी क्षेत्र से आने वाले आठ ग्रामीण भी गांव नहीं लौट पाए।इनको करीब छह घंटे तक नदी किनारे इंतजार करना पड़ा।

ग्राम प्रधान ओडर खीमी राम, व्यापार संघ के अध्यक्ष सुरेंद्र सिंह रावत, गांव के सामाजिक कार्यकर्त्ता माइकल मेहरा, संतोष सिंह, पूर्व प्रधान राजेंद्र सिंह मेहरा, भाजयुमो के अध्यक्ष तेजपाल रावत ने बताया है कि हाइड्रोलिक ट्राली में गुरुवार सुबह आठ बजे तकनीकी खराबी आई। जिसके चलते ग्रामीण नदी के दूसरे छोर पर दोपहर दो बजे तक फंसे रहे। मशीन के खराब होने की सूचना सुबह ही लोक निर्माण विभाग के अभियंताओं को दी गई, लेकिन टीम देर से पहुंची। ग्रामीण प्रताप सिंह ने बताया पहाड़ की दिनचर्या वर्षाकाल में थम जाती है, इसके बावजूद विभाग हरकत में नहीं आते। सबसे अधिक परेशानी बीमार को अस्पताल पहुंचाने की बन जाती है। ग्रामीणों द्वारा पूर्व में इस स्थान पर आवाजाही के लिए श्रमदान कर लकड़ी का वैकल्पिक पुल बनाया था, जो पिडर नदी के तेज बहाव से बीते 30 जून को बह गया। क्षेत्र की जनता पिछले नौ वर्ष से पिडर नदी पर पक्का पुल बनाने की मांग करते आ रही है लेकिन समस्या जस की तस बनी है। अक्सर ट्राली खराब रहने से ग्रामीणों में लोक निर्माण विभाग के खिलाफ गुस्सा बढ़ता जा रहा है। लोक निर्माण विभाग के अधिशासी अभियंता अजय काला ने बताया कि मौके पर तकनीकी टीम को भेजकर ट्राली को सुचारु कर दिया गया है।

Edited By: Jagran