अधिकारी न पहुंचने पर किया बैठक का बहिष्कार, नारेबाजी कर जताया आक्रोश

संवाद सहयोगी, गोपेश्वर: बीडीसी की बैठक में अधिकांश जिलास्तरीय अधिकारी नहीं पहुंचे तो नाराज जनप्रतिनिधियों ने सदन का बहिष्कार कर ब्लाक कार्यालय पर नारेबाजी कर आक्रोश जताया। जनप्रतिनिधियों ने कहा कि मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने अधिकारियों को जन समस्याओं को सुनने और जानने के गंभीर होने के निर्देश दिए हैं। मगर अधिकारी कितने गंभीर हैं। इसकी बानगी क्षेत्र पंचायत दशोली की त्रैमासिक बैठक में देखने को मिली है। जनप्रतिनिधियों ने कहा कि अधिकारियों ने अपने प्रतिनिधि बैठक में भेजे हैं। इससे नाराज़ होकर ग्राम प्रधान और क्षेत्र पंचायत सदस्यों ने सदन का बहिष्कार कर ब्लाक कार्यालय के गेट पर नाराजगी व्यक्त कर नारेबाजी की। उन्होंने कहा कि अधिकारी गांवों के विकास को लेकर गंभीर नहीं हैं। हर बैठक में अधिकारी गायब रहते हैं। जिससे प्रस्तावों पर कोई कार्रवाई नहीं होती है। ब्लाक प्रमुख विनीता देवी ने कहा कि जिलास्तर के कोई भी अधिकारी बैठक में नहीं पहुंचे, यह बेहद गंभीर विषय है। यहां क्षेत्र पंचायत की बैठक में जिलाधिकारी और मुख्य विकास अधिकारी दोनों को मौजूद रहना चाहिए, यदि यह संभव नहीं है तो मुख्य विकास अधिकारी को रहना चाहिए और जिलास्तरीय अधिकारियों को आना चाहिए, लेकिन कोई भी अधिकारी बैठक में नहीं पहुंचा। सभी ने अपने प्रतिनिधि भेजे थे। ऐसे में गांवों की समस्याएं भी जस की तस ही बनी रहती है। जिससे गांव के विकास कार्य ठप हो रहे हैं।

Edited By: Jagran